अंतिम संस्कार के वक्त मुर्दे को ऐसी हरकत करते देख माता-पिता अपने आपको रोक नहीं पाये और फिर…

वाराणसी: जरा सोचिए जिस मृत लड़के को उसके पिता श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार के लिए ले गये हो और कुछ ही देर में वो उनकी आंखों के सामने चिता से उठ जाये…ये पल किसी सपने से कम नहीं था लेकिन उत्तर प्रदेश के वाराणसी में हकीकत में ये नजारा देखने को मिला. कुछ ही पल में रोते-बिखरते परिजन अपने आंसू पोछ लेते हैं और बेटे को गले लगाकर उसे उपचार के अस्पताल ले जाते हैं और उसके बाद जो हुआ…

जी हां…आप सच्ची की ये घटना सुन रहे हैं जब श्मशान घाट पर मुर्दे को मुख्यअग्नि दी जा रही थी तभी चिता पर से मुर्दा उठकर खड़ा हो जाता है और कहता है कि यमराज के यहां अभी लाइन लगी है इसलिए मुझे वापस आना पड़ा. लड़के के ये बोल सुनकर लोगों के पैरों के नीचे जमीन खिल गई, क्योंकि मौजूद लोग इसे भूत समझने लगे थे लेकिन जब लड़के ने बोला कि मुझे अस्पताल ले जाया जाए तो लोग उसे अस्पताल लेकर भागे.

अस्पताल पहुंचते लड़का का इलाज हुआ तब तक सब कुछ ठीक चल रहा था. खबर सुनते ही माता-पिता की खुशी वापस आ गई और वो बेटे को घर ले जाने वाले थे लेकिन फिर से लड़के ने दम तोड़ दिया. ऐसा लग रहा था कुछ ही देर के लिए उन माता-पिता को खुशी मिली थी और फिर से मातम पसर गया था.

माता-पिता ने बताया कि सड़क हादसे में उनका 20 साल का लड़का बुरी तरह घायल हो गया था. जब उसे अस्पताल ले जाया गया तो इलाज के दौरान डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था. अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया तो लड़का जिंदा हो गया और फिर दोबारा मर गया. वाकई में ये नजारा किसी सपने से कम नहीं था लेकिन ईश्वर से उन माता-पिता के लिए प्रार्थना की जा रही है जिन्होंने अपनी आंखों के सामने दो-दो बार अपने बेटे को मरते देखा है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper