अखिलेश का वाराणसी की घटना पर तंज, ‘दिल्ली वाले चुप्पी साधे और लखनऊ वाले हैं ख़ामोश

लखनऊ ब्यूरो। समाजवादी पाटीज़् (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक बार फिर कानून व्यवस्था को लेकर सरकार पर निशाना साधा है। इस बार वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी की घटना को लेकर प्रदेश सरकार पर हमलावर हुए हैं।

उन्होंने शुक्रवार को ट्वीट किया एक तरफ़ दावा है कि प्रदेश के बदमाश एनकाउंटर वाली सरकार से आतंकित हैं, तो दूसरी तरफ़ देश के ‘प्रधान संसदीय क्षेत्र’ में सरेआम हुई लूट पर पुलिस के उच्चाधिकारी अपने विभाग पर ही सवाल उठा रहे हैं। अखिलेश ने कहा कि शासन-प्रशासन लगा रहा एक-दूजे पर दोष, हैं दिल्ली वाले चुप्पी साधे और लखनऊ वाले हैं ख़ामोश।

अखिलेश ने इस ट्वीट के साथ इस घटना से सम्बन्धित फोटो भी अपलोड की है, जिसमें आरोपी महिला के कनपट्टी पर रिवाल्वर ताने हुए है। जवाबी प्रतिक्रिया में कुछ यूजर्स ने शासन व प्रशासन व्यवस्था पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि योगी सरकार में बदमाश बेखौफ घुम रहे हैं। वहीं कुछ ने अखिलेश पर तंज कसा कि लूट तो सरेआम तब हुई जब सरकारी आवास से मार्बल और टोटी चुरा ले गए थे दबंगई करके।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में हुई इस घटना में अपने लड़के का इलाज कराने सोनभद्र से आयी महिला से लक्सा-गुरुबाग मुख्य मार्ग पर मोटरसाइकिल सवार दो बदमाशों ने असलहे के दम पर चेन लूट ली थी। घटना को लेकर वीडियो वायरल होने के बाद आईजी ने इस मामलें में अपराधियों की गिरफ्तारी के निर्देश दिए थे। इस सम्बन्ध में गुरुवार को पुलिस ने आरोपियों की पहचान के लिए एक लुटेरे का फुटेज भी जारी किया था। हालांकि अभी तक बदमाशों का कोई सुराग नहीं पता चल सका है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper