अखिलेश यादव ने जारी किया घोषणा पत्र, सपा ने विकासपरक शिक्षा नीति बनाने का किया वादा

लखनऊ: समाजवादी पार्टी ने शुक्रवार को लोकसभा चुनाव को लेकर अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया। इसमें विकासपरक शिक्षा नीतियां बनाने का वादा किया गया है। इसके साथ ही केंद्र में सरकार बनने पर एक्सप्रेस वे जैसी सड़के बनाने का वादा किया गया है। अखिलेश यादव ने पार्टी कार्यालय पर घोषणा पत्र को जारी करते हुए कहा कि हमारे शासन काल में बनाए गए एक्सप्रेस-वे जैसी कोई सड़क नहीं बनी। हम पूरे देश की प्रमुख सड़कों को वैसे ही बनवाएंगे। मुस्लिम लीग मामले में ट्वीट पर मुख्यमंत्री पर कसा तंज उन्होंने एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर तंज कसते हुए कहा कि वह एक अच्छे मुख्यमंत्री हैं। मुस्लिम लीग वाले मामले में उन्होंने कोई ट्वीट नहीं किया होगा।

अगर ट्वीट हुआ है तो उन्होंने खुद ऐसा ट्वीट नहीं किया होगा। यह बता दें कि शुक्रवार को ही मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने ट्वीट किया था कि मुस्लिम लीग एक वायरस है। एक ऐसा वायरस, जिससे कोई संक्रमित हो गया तो वह बच नहीं सकता और तो मुख्य विपक्षी दल भी इससे संक्रमित हो चुका है। इसी पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि केन्द्र की सरकार में हम आएंगे तो महिलाओं के लिए चक्रव्यूह सुरक्षा मुहैया करायेंगे। माताओं बहनों को सुरक्षित समाज में लाकर उनका विकास करने का कार्य करेंगे। हर वर्ग का ख्याल रखकर बनाया घोषणा पत्र अखिलेश यादव ने कहा कि घोषणा पत्र में हर वर्ग का ख्याल रखकर बनाया गया है। आज देश के सामने बेरोजगारी के सही आंकड़े रखने चाहिए। अब अमीरी और गरीबी की खाई बढ़ती जा रही है और इसको गहरा होने नहीं दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार में केवल कुछ उद्योगपतियों को ही फायदा पहुंचा है।

नौजवानों को रोजगार नहीं मिला। शिक्षा व्यवस्था खराब होने के कारण छात्रों को कोचिंग करनी पड़ती है। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकारों में वादे होते हैं। जो पूरा होते हुए नहीं दिखायी देते। वादे किये जाते हैं और उस पर कोई जवाबदेही नहीं होती है। फिर वह केन्द्र में सरकार हो, या फिर प्रदेश में बनी भाजपा की सरकार हो। घोषणा पत्र की प्रमुख बातें अखिलेश यादव ने पार्टी के घोषणा को विजन डॉक्यूमेंट बताया है। इसमें समाजवादी पेंशन योजना के तहत जरूरतमंद परिवारों की महिलाओं को तीन हजार रुपये प्रतिमाह देने का वादा किया है। उन्होंने कहा कि किसानों और युवाओं के लिए विश्वस्तरीय एक्सप्रेस-वे एवं सड़कों का निर्माण कराया जाएगा, ताकि स्कूल, बाजार और ऑफिस तक यातायात सुगम हो। सार्वजनिक यातायात सुविधा ज्यादातर लोगों के लिए महत्वपूर्ण है। सार्वजनिक यातायात की दिशा में लखनऊ मेट्रो ने बेहतरीन उदाहरण पेश किया है। विजन डॉक्यूमेंट में अखिलेश ने कहा कि आज देश में अमीर और भी अमीर हो गया है।

देश में 10 प्रतिशत समृद्ध, जिनमें से ज्यादातर सवर्ण हैं, उनके पास देश की 60 प्रतिशत राजकीय संपत्ति है। उन्होंने कहा कि आज देश की आधी आबादी के पास देश की कुल आय का आठ प्रतिशत धन है। यहां गरीब प्रतिदिन गरीब होता गया है। उनकी सरकार आती है तो देश के उन 0.1 प्रतिशत अमीरों पर दो प्रतिशत अतिरिक्त टैक्स लगाएंगे जिनकी संपत्ति ढाई करोड़ से अधिक है। इस अतिरिक्त टैक्स से सामाजिक न्याय में वृद्धि होगी। सपा अध्यक्ष ने कहा कि सभी के लिए शिक्षा एक मौलिक अधिकार है। स्कूलों का निर्माण करना ही पर्याप्त नहीं है। हम इस दिशा में अलग तरह से सोचते हैं, ताकि देश के प्रत्येक छात्र को अनिवार्य, नि:शुल्क एवं गुणवत्ता युक्त शिक्षा मिल सके। बिना प्राइमरी एजुकेशन को ठीक किये कुछ सही नहीं हो सकता। विजन डॉक्यूमेंट में ढाई करोड़ से अधिक संपत्ति वालों पर दो फीसद का अतिरिक्त टैक्स लगाने, जीडीपी का छह फीसद शिक्षा पर खर्च करने सहित कई बिंदुओं को शामिल किया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper