अख्तर ने सहवाग से कहा, तुम्हारे सिर पर जितने बाल हैं, उससे कहीं अधिक पैसे हैं मेरे पास

नई दिल्ली: पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग के उस कथन का खंडन किया है, जिसमें सहवाग ने कहा था कि अख्तर भारतीय टीम की इतनी तारीफ इसलिए करते हैं क्योंकि इससे उनकी कमाई होती है। सहवाग के इस बयान के जवाब में अख्तर ने अपने यू-ट्यूब चैनल पर एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें अख्तर ने सहवाग से कहा है कि “तुम्हारे सिर पर जितने बाल हैं, मेरे पास उससे कहीं अधिक पैसे हैं।”

अख्तर ने कहा, “तुम्हारे जितने बाल हैं, मेरे पास उससे कहीं अधिक माल (पैसा) है। मुझे पता है कि तुम्हें समस्या इस बात पर है कि मेरे इतने सारे फॉलोअर्स हैं। मैं समझ सकता हूं। तुम जानते हो कि शोएब अख्तर बनने में 15 साल लगे हैं।” अख्तर का यह वीडियो सहवाग के एक पुराने वीडियो के सामने आने के बाद आया है। 2016 के उस वीडियो में सहवाग ने कहा था कि अख्तर पैसे कमाने के लिए भारतीय टीम की तारीफ करते हैं।

भारत और आस्ट्रेलिया के बीच समाप्त तीन मैचों की वनडे सीरीज के हर मैच का अख्तर ने एनालिसिस किया था और साथ ही उन्होंने विराट कोहली की टीम की 2-1 से जीत के बाद जमकर तारीफ भी की थी। अख्तर के यू-ट्यूब पर लाखों फालोअर्स हैं और वह यू-ट्यूब पर काफी सक्रिय रहते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper