अगर आपके चेहरे में है ये खूबी तो आपको भी मिल सकते हैं 92 लाख रुपये, जानिए कैसे

नई दिल्ली: लंदन की टेक कंपनी जियोमीक एक ऐसा रोबोट बना रही है, जो बिल्कुल इंसान जैसे दिखाई देगा। कंपनी के मुताबिक, रोबोट का नाम वर्चुअल फ्रेंड होगा। रोबोट का निर्माण अगले साल शुरू होगा। वर्तमान में रोबोट निर्माण की योजना कहां तक पहुंची है, इस बारे में कंपनी ने कोई जानकारी नहीं दी है। हालाकि, कंपनी का कहना है कि उसको रोबोट के लिए इंसानी चेहरे की तलाश है। कंपनी इसके लिए इंसान को 92 लाख रुपए देने को तैयार है।

कंपनी ने अपने रोबोट को दिए जाने वाले चेहरे के लिए शर्त रखी है कि वह दयालु और फ्रेंडली दिखना चाहिए। कंपनी ने कहा है कि वह इसके लिए उस इंसान के चेहरे का एग्रीमेंट कराएगी और रकम अदा करेगी। दरअसल कंपनी अपने रोबोट को ऐसा चेहरा देना चाहती है जो देखने में बिल्कुल इंसान जैसा लगे। जियोमीक कंपनी ने बताया कि रोबोट का नाम वर्चुअल फ्रेंड रखने में विचार किया गया है। अगले साल तक पूरा होने वाले इस रोबोट को लेकर अभी से चेहरे की तलाश शुरू कर दी गई है। कंपनी ने इसके लिए कई चेहरों का टेस्ट भी किया है। कंपनी ने बताया कि अब तक जिन चेहरों को कंपनी ने चुना है, उन्हें हमने निजी रूप में पैसा दिया है।

कंपनी का कहना है कि हम जानते हैं यह एक अलग तरह की डिमांड है। कंपनी कुछ ऐसे चेहरों की तलाश कर रही है जो अलग तरह से दिखते हैं। किसी भी इंसान के लिए उसके चेहरे का लाइसेंस एग्रीमेंट करवाना एक बड़ा फैसला है। जब किसी चेहरे का एग्रीमेंट कराया जाता है तो उसके चेहरे को एक रोबोट के तौर पर तैयार किया जाता है। यह किसी आम रोबोट की तरह नहीं दिखेगा, उसकी अपनी अलग पहचान होगी और वह बिल्कुल इंसान की तरह ही दिखाई देगा।

रोबोटिक्स कंपनी जियोमीक अपने नए प्रोजेक्ट पर पिछले पांच साल से काम कर रही है। प्रोजेक्ट को काफी सीक्रेट तरीके से प्लान किया गया है, जिससे इससे जुड़ी कोई भी जानकारी बाहर न जा सके। कंपनी के मुताबिक रोबोट के निर्माण के लिए जिन चेहरों को चुना जाएगा, उनका पूरा विवरण भी रोबोट में दिया जाएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper