अगर आप भी है इस रोग से ग्रसित तो करें सात दिन तक कच्चे आवला का सेवन

आंवला एक ऐसा फल है जिसका सेवन सिर्फ एक ही बीमारी में नही कि जाती ये कई रोगों को जड़ से ख़त्म करने का निवारण है और हम सभी ने कभी न कभी किसी न किसी रूप में किया ही होता है । बड़े बुजुर्ग तो आज भी आँवलें का सेवन करना पसंद करते हैं । आंवला हमरे शरीर के बहुत अच्छा होता है । हम आंवले का सेवन कभी आचार के रूप में कभी सुखकर चूर्ण के रूप में कभी जूस के रूप में करते हैं । इसके अनेक फायदे हैं । इसके क्ष्सेवन से हमारे शरीर के कई रोग दूर होते हैं।

आइये जानते कैसे और क्या फायदे हैं । आंवले को अगर कच्चा खाया जाए तो इसके फायदे ज्यादा होते हैं । हिन्दू मान्यतों के आधार पर तो आंवले को देवता का रूप माना गया है । हिन्दू धर्म में आंवले की पुजा भी की जाती है कहा जाता है की आंवले की पुजा करना इसके पेड़ के नीचे खाना बनाना और खाना खाने से कई रोग दूर हो जाते हैं ।

अगर किसी को पथरी की समस्या है तो आंवले को सूखा कर उसका चूर्ण बना लें और इस चूर्ण को मूली के रस के साथ लें आपकी पथरी जल्दी ही गल कर निकाल जाएगी ।

आपको गैस की समस्या है तो आंवले के चूर्ण में काली मिर्च और काला नमक मिला कर रोज सेवन करें आपको गैस की समस्या नहीं सताएगी ।

अगर आंवले को लगातार 7 दिन तक रोज आप खाएँगे तो आपके बालों के झड़ने की समस्या और बालों के सफ़ेद होने की समस्या जड़ से समाप्त हो जाएगी ।

आंवले के सेवन से महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान होने वाली कठिनाई में आराम मिलता है और दर्द से हमेशा के लिए राहत भी मिल जाती है ।

आंवले के सेवन से पेट की सारी बीमारियों में आराम मिलता है , इसमे मौजूद फाइबर का गुण पाचन का कार्य अच्छे से करने में मदद करता है ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper