अगर जीवन में रहना है स्वस्थ तो इस बर्तन में रखकर पीएं पानी

नई दिल्ली । अक्सर आपने लोगों को कहते सुना होगा कि फ्रिज के पानी में वो स्वाद कहा जो मिट्टी के मटके के पानी का है। पर क्या आप जानते हैं कि मिट्टी के मटके का पानी पीने से मनुष्य की कई बीमारी भी दूर होती हैं । जी हां मटके का पानी में जीतना शीतल होता है उतनी ही शरीर के लिए फायदेमंद भी।

तो चलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं मटके का पानी पीने के कुछ फायदे-मटके का पानी पीने से एसीडिटी की समस्या दूर होती है । अगर आप रोज मटके के पानी के प्रयोग करते हैं तो इससे आपकी इम्युनिटी पावर में वृद्धि होती है। साथ ही शरीर की पाचन शक्ति भी मजबूत होती है। इसके अलावा मटके के पानी से शरीर में टेस्टोस्टेरोन स्तर भी बढ़ता है।

मिट्टी के मटके में मिट्टी के गुण होते हैं, जो पानी के अंदर मौजूद अशुद्धियों को खत्म कर देता हैं। मिट्टी का बर्तन पानी को हमेशा स्वच्छ बनाकर रखता है। मिट्टी के मटके का पानी में पानी के सुक्ष्म तत्व घुले होते हैं जो मनुष्य की सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं। साथ ही इसका पानी फ्रिज के पानी से ज्यादा अच्छा और लाभकारी होता है।

मिट्टी में मौजूद एल्कलाइन मटके के पानी के PH को संतुलित करती है, जो मानव शरीर के लिए फायदेमंद साबित होता हैं। इस पानी के पीने से पेट में दर्द की समस्या से राहत मिलती है। मटके का पानी ज्यादा ठंडा नहीं होता जिससे वजन बढ़ने की समस्या पैदा नहीं होती है। इतना ही नहीं कब्ज, गैस, गला खराब जैसे रोग भी इसके पीने से नहीं होते।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper