अगस्ता वेस्लैंड मामला : ब्रिटिश हाई कमीशन को मिशेल से मिलने की अनुमति मिली

नई दिल्ली: भारत में ब्रिटिश हाईकमीशन को अगस्ता वेस्लैंड मामले के आरोपी क्रिश्चियन मिशेल से मुलाकात की मंजूरी मिल गयी है। अब राजनयिक मिशेल से मुलाकात कर सकेंगे। भारत में ब्रिटिश दूतावास का कहना है कि स्‍टाफ उस ब्रिटिश नागरिक की मदद कर रहा है, जिसे भारत में हिरासत में रखा गया है। दूतावास के अधिकारियों की ओर से मिशेल से मुलाक‍ात की गई है और उनका हाल-चाल जाना गया है।

छह दिसंबर को ब्रिटेन के उच्‍चायोग ने भारत सरकार को चिी लिखी थी। इस चिी में हाई कमीशन ने अगस्‍ता वेस्‍टलैंड के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को राजनयिक से मिलने देने का अनुरोध किया था। हाई कमीशन ने लिखी थी चि_ी भारत सरकार को ब्रिटेन की हाई कमीशन की ओर से जो अनुरोध मिला उस पर सरकार ने काफी विचार विमशज़् किया था। आपको बता दें कि अगस्‍ता वेस्‍टलैंड वीवीआईपी चॉपर डील में मिशेल एक बिचौलिया था और दिसंबर माह उसे यूएई से गिरफ्तार करके भारत लाया गया।

वीवीआईपी चॉपर घोटाला करीब 3,600 करोड़ रुपए का है। राजधानी दिल्‍ली में उस समय ब्रिटिश हाई कमीशन के प्रवक्‍ता की ओर से कहा गया था कि मिशन को आरोपी मिशेल की परिस्थितियों के बारे में उसे तुरंत जानकारियां चाहिए। इसलिए उसे राजनयिक से मिलने की अनुमति दी जानी चाहिए। मिशन की ओर से जारी बयान में कहा गया, यूएई में हिरासत में लिए जाने के बाद से हमारा स्‍टाफ ब्रिटिश नागरिक के परिवार को मदद कर रहा है।

हम इस मामले में उनके परिवार और यूएई की अथॉरिटीज के साथ लगातार संपर्क बनाए हुए हैं और हम भारतीय अथॉरिटीज से अनुरोध करते हैं कि जल्‍द से जल्‍द हमें उनसे मिलने दिया जाए ताकि उनकी स्थिति के बारे में पता लग सके।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper