अटल घाट की सीढ़ियों से गिरे पीएम मोदी

कानपुर। नमामी गंगे के तहत मां गंगा का निरीक्षण कर लौट रहे पीएम नरेंद्र मोदी जब अटल घाट की सीढ़ियां चढ़ रहे थे, तभी एक सीढ़ी में पैर फंसने से उनका संतुलन बिगड़ा और वह गिर गए। पीएम मोदी के पीछे चल रहे एसपीजी के जवानों ने उन्हें सराहा देकर उठाया। हालांकि, प्रधानमंत्री को गिरने से कोई चोट नहीं आई।

वह चेहरे पर बगैर किसी शिकन के उठे और पूरे जोश के साथ लोगों का अभिवादन करते हुए अपनी कार में जाकर बैठ गए। पीएम जिस सीढ़ी को चढ़ते हुए गिरे उस पर पहले से ही चेतावनी लिखी हुई है। प्रशासन ने स्वीकार किया है कि हादसा एक सीढ़ी की अनियोजित ऊंचाई की वजह से हुआ। कमिश्नर ने इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं।

जिस सीढ़ी पर प्रधानमंत्री उलझकर गिरे, उस पर पिछले दिनों निरीक्षण के लिए आए कई अधिकारी भी गिर चुके हैं। इस सीढ़ी की ऊंचाई को लेकर प्रशासनिक अधिकारियों ने शुक्रवार की रात चर्चा की थी। कमिश्नर सुधीर एम बोबडे ने बताया कि रात में ही एसपीजी को सूचित किया गया था कि अटल घाट पर एक सीढ़ी ज्यादा ऊंची है। एसपीजी ने इस संबंध में पीएम को भी अवगत करा दिया था। यह घटना काफी दुर्भाग्यपूर्ण है, निर्माण एजेंसी से बात करके जांच कराई जाएगी और सीढ़ी की ऊंचाई कम कराई जाएगी ताकि भविष्य में इस तरह की घटना न हो।

गौरतलब है पीएम मोदी नमामि गंगे की समीक्षा करने के लिए कानपुर के एक दिन के दौरे पर पहुंचे। इस मौके पर उन्होंने गंगा की सैर की और गंगा शुद्धिकरण की समीक्षा की। इस अवसर पर उनके साथ बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और उत्तरखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper