अद्भुत है ये जूस! 42 दिनों में ख़त्म होगा कैंसर, 45000 लोग हो चुके है पूरी तरह ठीक

नई दिल्ली: इस प्रसिद्ध ऑस्ट्रियाई रस ने कैंसर और अन्य कई असाध्य रोगों से 45,000 से भी ज्यादा लोगों को ठीक किया है एक विशेष भोजन की मौजूदा जो 42 दिनों के लिए रहता है का आविष्कार किया है। रुडोल्फ सिफारिश की है कि सभी लोगों को सिर्फ चाय और इस सब्जी का रस ही पीना चाहिए।

इस अद्भुत घर का बना रस में मुख्य घटक चुकंदर है । उनका ये दावा है कि इस चक्र के दौरान में , कैंसर की कोशिका मर जाते हैं।

नोट : सुनिश्चित करें कि आप जैविक या फिर स्थानीय उगाई गई सब्जियों का ही उपयोग करते हैं। आपको निम्नलिखित सामग्री की आवश्यकता होगी :

चुकंदर (55 %),
गाजर (20 %),
अजवाइन रूट (20 %),
आलू (3%),
मूली (2 %)
इनका सब का जूस बनाएं, और अपने ड्रिंक का आनंद लें।

नोट : इस जूस को ज्यादा मात्रा में न पिये, अपने शारीरिक आवश्यकता के अनुसार ही पिये।

ऑस्ट्रिया के Rudolf Breuss ने कैंसर के लिए सबसे अच्छा प्राकृतिक इलाज खोजने के लिए अपना सारा जीवन समर्पित कर दिया है। Rudolf Breuss ने बताया है के कैंसर ठोस भोजन पर ही जिंदा रहता है , कैंसर को बढ़ने से भी रोका जा सकता है अगर कैंसर का मरीज़ 42 दिन तक सिर्फ और सिर्फ सब्जिओं का रस और चाय ही ले|

Rudolf Breuss ने एक ख़ास किस्म का जूस तय्यार किया जिसके बहुत ही शानदार नतीजे देखने को मिले है , उन्होंने इस तरीके से 45,000 से भी ज़यादा लोगों को जिन्हें कैंसर या फिर कई ऐसी ही लाइलाज बीमारियाँ थी को ठीक किया है| ब्रोज्स का कहना था के कैंसर सिर्फ प्रोटीन पर ही जिंदा रहता है|

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper