अनुच्छेद 370, तीन तलाक पर 2 अक्टूबर को राय रखेंगे उप्र के छात्र

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के स्कूली छात्र 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के अवसर पर आयोजित प्रतियोगिताओं के दौरान अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने और तीन तलाक पर चर्चा करेंगे। राज्य के संस्कृति विभाग ने वाद-विवाद प्रतियोगिता के लिए दो विषयों को चुना है। सर्वश्रेष्ठ वक्ता को पुरस्कार भी दिया जाएगा।

सभी सरकारी और निजी स्कूलों को प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए कहा गया है, जिसमें वाद-विवाद, निबंध लेखन और चित्रकला प्रतियोगिता शामिल होंगे। कक्षा 9-12 के स्कूली छात्रों के लिए वाद-विवाद और भाषण का विषय अनुच्छेद 370 और तीन तलाक का निराकरण होगा। सरकार द्वारा चुनी गई वाद-विवाद के अन्य विषयों में ‘अहिंसा- आतंकवाद और नक्सलवाद का समाधान’ और ‘भारत की समस्याओं का मूल कारण जनसंख्या विस्फोट’ भी है।

निबंध लेखन के लिए विषय – ‘हमारा स्पष्ट संदेश, प्लास्टिक मुक्त उत्तर प्रदेश’ और ‘महात्मा गांधी के दर्शन और विचारों की प्रासंगिकता’ हैं। चित्रकला प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाले छात्रों को तीन में से किसी एक विषय को चुनना होगा, जो हैं ‘स्वच्छता से समृद्धि’, ‘अहिंसा’ और ‘प्रदूषण-जल, जमीन और हवा’।

संस्कृति विभाग के प्रधान सचिव जितेंद्र कुमार ने कहा, “उत्तर प्रदेश में सभी माध्यमिक स्कूलों के सभी छात्र इस प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। यह आयोजन माध्यमिक शिक्षा विभाग के साथ मिलकर आयुक्तों और जिलाधिकारियों के सहयोग से किया जा रहा है।” उन्होंने आगे कहा कि यह आयोजन जिला और क्षेत्रीय स्तर पर होगा। स्कूलों से शीर्ष तीन छात्र जिला स्तर पर भाग लेंगे। प्रत्येक जिले के शीर्ष तीन स्कूल क्षेत्रीय स्तर पर भाग लेंगे और विजेताओं के नाम संस्कृति विभाग को सौंपा जाएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper