अपनी गाड़ी पर क्या-क्या लिखवा लेते हैं लोग, चौथी फोटो तो सबसे गजब

हमारे देश में इस पूरी दुनिया से एकदम बिलकुल अलग कल्चर है गाडियों को लेकर। यहाँ पर लोग अपनी गाडियों पर नम्बर के अलावा भी बहुत कुछ लिखवाना पसंद करते है और ये कई बार तो लोगो को अच्छा लगता है लेकिन अक्सर ऐसा भी होता है कि इस वजह से ही वो लोग हंसी के पात्र भी बन जाते है। चलिए फिर आज हम आपको बताते है ऐसे ही कुछ एक फोटोज के बारे में जिन्हें देखकर के आप भी कहेंगे कि भला ये सब चीजे गाडी पर लिखवाने  की किसे और क्यों जरूरत पड़ गयी?

रिक्शा के पीछे एड करवाना तो चलो ठीक है लोग अक्सर करवाते ही है लेकिन ये फीस देखकर के किसी को भी सदमा लग सकता है इसलिए थोडा बहुत सोचा तो करो फिर इस तरह से कुछ भी बोला करो।

इन पुलिस वाले भाई साब का भी अपना अलग ही स्वैग है। इसे देखकर के शायद ही कोई इनके आस पास भी फटकने की सोचे। खैर जो है सो है। क्या कर सकते है?

कभी ये भाई साब पीने के शौक़ीन थे लेकिन अब छोड़ दी है तो इन्होने बड़े ही शान के साथ में अपनी गाडी पर भी लिखवा दिया है। आखिर इतना बड़ा काम जो किया है।

हर किसी सरकारी कर्मचारी की भी अपनी अलग किस्म की अकड होती है और इस बाइक को देखकर के तो ये बात पूरी तरह से मानने में भी आ ही जाती है।

किसी का कर्जा माफ़ किया है तो उसके बदले में ये सब इतना कुछ लिखकर के भी दे दिया है. आप खुद भी देख लो और इस बात को महसूस भी कर ही लो।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper