अपनी ‘नपुंसकता’ के लिए पिता को ठहराया जिम्मेदार, गला रेत कर उतार दिया मौत के घाट

नई दिल्ली: यूपी में एक 25 साल के शख्स को उसके पिता की कथित तौर पर हत्या करने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया है। उसने अपने पिता की तेजधार हथियार से गला रेत कर हत्या की थी। उसका आरोप थी कि वह नपुंसक है और इसके लिए उसका बाप जिम्मेदार है। उसे अपने पिता से इस बात की नाराजगी थी कि उसकी इस बीमारी को गंभीरता से नहीं लिया और उसके इलाज पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया गया। बताया जाता है कि आरोपी की पत्नी ने उस पर नपुंसक होने का आरोप लगाया था।

मृतक रामभूल सिंह पेशे से एक किसान था और अपनी पत्नी और दो बेटों ललित और अर्जुन के साथ कलोडा गांव में रहता था। अरुण और उसकी पत्नी के एक लड़का हुआ जबकि ललित और उसकी पत्नी के एक भी बच्चा नहीं था और इस कारण ये पति-पत्नी एक दूसरे से अलग हो गए। कुछ साल पहले ही ललित के ऊपर उसकी पत्नी ने आरोप लगाया था कि वह नपुंसक है और तभी से दोनों अलग रहने लगे।

आरोपी की कुछ समय से अलीगढ़ और मेरठ के डॉक्टरों से इलाज चल रहा था। शनिवार को सुबह 7 बजे अरुण ग्राउंड फ्लोर पर अपने पिता को देखने के लिए उनके रुम में गया लेकिन वहां पर उन्हें मृत अवस्था में पाकर उसकी चीख निकल गई। अरुण ने देखा कि उसका भाई ललित जो रात में उसी रुम में सोया था वह गायब था।

सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। डीसीपी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि मृतक के परिवार ने उन्हें बताया था कि शुक्रवार रात रामभूल सिंह और ललित एक ही कमरे में सोए थे। उसके अगले ही सुबह रामभूल को अपने कमरे में खून से लथपथ देखा गया। पुलिस ने इसके बाद फौरन ललित की तलाश कर दी और कुछ समय बाद ही पड़ोस के गांव से उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

पूछताछ के दौरान उसने बताया कि उसी ने अपने पिता की हत्या की है क्योंकि उसका पिता उसकी बीमारी के चलते घर से बाहर कहीं जाने नहीं देता था। डीसीपी ने शुरुआती जांच के बाद कहा है कि आरोपी मानसिक रुप से अस्वस्थ लगता है। ललित ने बताया कि उसे लेकर पिता को हमेशा असुरक्षा की भावना लगी रहती थी। फिलहाल पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper