अपने सपनों को पाना चाहते है तो इसे ज़रूर पढ़े

आपकी जिंदगी में जो कुछ भी आता है, उसे आप अपने विचारो से ही आकर्षित करते है। साथ ही, जो कुछ भी आप जिंदगी में चाहते हो, भले ही वह कितना भी बड़ा या छोटा क्यों न हो, आप उसे अपने विचारो की सहायता से हासिल कर सकते है।

लेकिन हम क्या चाहते है इस बारे में सोचने की जगह हम हमेशा उस बारे में सोचते रहते है जो हम नही चाहते। और परिणामस्वरूप वही होता है जो हम नही चाहते। यह सब आकर्षण के नियम की वजह से होता है क्योकि आकर्षण बुराई और अच्छाई को अलग नही करता, वो तो सिर्फ जो आप कहते रहते है या सोचते रहते है वही आप तक लाता है।

dimag ko kendrit kare

आप जो चाहते है पा सकते है यह सब “आकर्षण के नियम” पर आधारित है। आप अपने सपनो को ही वास्तविकता में परिवर्तित कर सकते है। अगर आप हमेशा पैसे और समृद्धि के बारे में सोचेंगे तो वो ही आपके पास आएगा, आपकी सोच ही इन सारी चीजो को आपके जीवन में प्रकट करती है। इसी प्रकार यदि आप किसी बुरी परिस्थिति के बारे में लगातार सोचते रहेंगे तो मजबूरन आपको डर की अनुभूति होंगी। और आपकी सोच उसे सच बना देगी और आपका डर यकीन में बदल जायेगा।

यकीन ना आये तो अपनी ही कोई पुरानी ऐसी सोच याद करके देख लीजिये पता चल जायेगा की यह बात सच है या नहीं। इसीलिए आपको हमेशा सकारात्मक ही सोचते रहना चाहिए। दुर्घटनाओ और बुरी किस्मत जैसी कोई चीज नही होती। बल्कि “आपकी वर्तमान जिंदगी आपके भूतकालीन विचारो का ही प्रतिबिंब है।”

हमारा दिमाग एक चुम्बक है जिसे आकर्षण के नियम की वजह से समय-समय पर ब्रह्माण्ड से आवृत्तियाँ मिलती रहती है। इस वक्त में आपका दिमाग आपको कुछ भी दिला सकता है जैसे की नए घर का सपना आपकी यह सोच ही एक ना एक दिन आपको वो घर जरूर दिला देती है। दूसरी तरफ लगातार बुरी चीजों के बारे में सोचते रहने से ही आपकी जिंदगी में बुरी परिस्थितियाँ हमेशा बनी रहती है।

लेकिन इसके भी कुछ नियम है जिसके बारे में आपको पता होना बहुत ज़रूरी है। वो कुछ इस प्रकार है :-

आपको जिसे प्राप्त करना है उसकी कल्पना करनी होती है और मानना पड़ता है की आपके पास वह चीज पहले से ही मौजूद है। यह ब्रह्माण्ड ही हमारा जिन है जो हमेशा हमारी इच्छाओ को पूरा करने के लिए तैयार रहता है। लेकिन जबतक आप उससे कुछ माँगोगे नही तबतक ब्रह्माण्ड आपके लिए कुछ नही भेजेंगा।

आपको हमेशा पता रहना चाहिए की आप चाहते क्या है ऐसे नहीं की अभी कुछ फिर पल में कुछ आपकी सोच, आपकी इच्छा निर्धारित होनी चाहिए तभी ब्रह्माण्ड आपकी वो बात समझ पाता है और आप तक उसे पहुँचता है। क्योकि जबतक आप भ्रमित रहेंगे तब तक आप मिश्रित परिणामो को ही आकर्षित करते रहेंगे। ब्रह्माण्ड स्पष्ट बात को आसानी से समझ लेता है।

आपको भरोसा करना सीखना होंगा की आपके द्वारा इच्छा जताने के तुरंत बाद ही वह चीज आपके पास आ गयी है और आप उस पल को जी रहे है। क्योकि एक बार यदि आपने भरोसा करना सिख लिया तो आप आसानी से अपने जीवन में वो सब पा सकते है जो आप चाहते है। लेकिन भरोसा करना ही सबसे कठिन स्टेप है तो हमेशा इस बात का ध्यान रखे और हमेशा अपने सपनो, इच्छाओ को जीते रहे। ऐसा बर्ताव करे की आप जिस कार को चाहते हो वह कार पहले से ही आपके पास है। योजना बनाए की आप उस कार को लेकर कहा-कहा जाओंगे और कहा उसे पार्क करोगे। ऐसा बर्ताव करने से आवृत्तियाँ आपकी सकारात्मक सोच को ब्रह्माण्ड में भेजेगी और अंततः आपकी इच्छा वास्तव में पूरी होंगी।

ऐसा करने के लिए आपको एक वाक्य को बार-बार दोहराने की जरुरत है, “मेरी जिंदगी में सबकुछ अच्छा हो रहा है, और अब मुझे वो सबकुछ मिल रहा है जो मै चाहता हूँ।”

apne maksad ko dohray

कुछ चीजो को हासिल करने में बहुत ज्यादा समय इसलिए लगता है क्योकि आपका उनपर पूरा विश्वास नही होता। आपमें अपनी जिंदगी को परफेक्ट बनाने की काबिलियत है। आप अपने विचारो के चालक और मालक दोनों है। आपको इस बात का अंदाज़ा भी नही होंगा की आप केवल अपने विचारो के बल पर ही इस दुनिया को जीत सकते हो।

सब कुछ हमारे विचारो से ही नियंत्रित किया जाता है जितने भी महापुरुष रहे है अभी तक वह सब कुछ उन्होंने अपनी इच्छाशक्ति से ही पाया है। अंत में यह सब आपके दिमाग की शक्तिया है। चाहे आप माने या ना माने आपके विचार ही सच्चाई बनकर एकदिन आपके सामने आते है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper