अपने ‎विवा‎दित बयान में खुद ही फंस गए ‎गिरीराज

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का विवादित बयानों से पुराना नाता रहा है, लेकिन इस बार उनके विवादित बयान में वह खुद ही फंस गए। सिंह ने तीन मार्च को पटना में हुई एनडीए की संकल्प रैली को लेकर बयान दिया था कि जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में नहीं आएगा वो देशद्रोही होगा लेकिन रविवार को हुई मोदी की रैली में वह खुद ही नहीं पहुंच पाए। मोदी में शामिल नहीं होने की पुष्टि उन्होंने खुद ट्वीट करके दी है। उनका वह पुराना बयान और रैली में शामिल न होने का ट्वीट दोनों ही सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं।

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गिरिराज सिंह ने रैली से पहले बयान दिया था कि तीन मार्च को पटना के गांधी मैदान में होने वाली मोदी की संकल्प रैली में जो नहीं आएगा, वो देशद्रोही होगा। उन्होंने कहा था कि इस रैली से यह साबित हो जाएगा कि कौन पाकिस्तान के साथ खड़ा है और कौन हिन्दुस्तान के साथ। बताया जा रहा है कि उन्होंने कहा था कि जो हिन्दुस्तान के साथ होगा, वह मोदी के साथ खड़े दिखेंगे और जो पाकिस्तान के साथ होंगे, वह रैली में नहीं आएंगे। गिरिराज सिंह के इस बयान को लेकर जदयू ने आपत्ति जताई थी। इसके अलावा कांग्रेस और राजद ने भी भाजपा पर निशाना साधा था।

प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को पटना में संकल्प रैली को संबोधित करते हुए कहा कि उनकी प्राथमिकता आतंकवाद, गरीबी, भ्रष्टाचार और काले धन को समाप्त करने की है। लेकिन विपक्ष की प्राथमिकता मोदी को खत्म करने की है। राजग की संकल्प रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने अपनी सरकार की उपब्धियां गिनाते हुए कहा कि यह तभी संभव हो पाया है जब 2014 में आपने राजग को एक मजबूत जनादेश दिया। 2014 से लेकर अब तक का समय देश की बुनियादी आवश्यक्ताओं को पूरा करने का था। 2019 के बाद आगे का समय देश को 21वीं सदी में नई ऊंचाई पर पहुंचाने का है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper