अब कैदी भी उठा सकेंगे टीवी का लुत्फ

लखनऊ। जेलों में बंद कैदी भी अब टीवी देखकर मनोरंजन कर सकेंगे। कैदियों के मानसिक तनाव को दूर करने के लिए योगी सरकार ने 900 टीवी खरीदे जाने की मंजूरी दे दी है। राजधानी लखनऊ और नोएडा की जेलों में 30-30 एलईडी टीवी लगाई जाएगी। पहले चरण में 64 जेलों के लिए शासन ने 3,37,50,000 रूपये मंजूर किए हैं। टीवी खरीदने का आदेश महानिरीक्षक कारागार प्रशासन एवं सुधार को भेज दिया गया है।

कारागार प्रशासन के अनुसार जेल प्रशासन 30 नवंबर 2018 तक टीवी खरीदकर प्रदेश की 64 जेलों में लगाएगा। 25-25 एलईडी टीवी मुरादाबाद, सीतापुर, लखीमपुर खीरी, आजमगढ़, इटावा और वाराणसी की जेलों में लगेंगे, वहीं बरेली, चित्रकूट और बाराबंकी में 20-20 टीवी लगेंगे। यूपी में कुल 72 जेल हैं। शासनादेश में कहा गया है कि इस स्वीकृत धनराशि का उपयोग 30 नवंबर 2018 तक अवश्य कर लिया जाये। आईजी कारागार पीके मिश्र ने बताया कि एलईडी टीवी के लिए विभिन्न कम्पनियों से निविदायें मंगवाई गयी हैं। कहा कि जेल में टीवी लगाये जाने का मतलब कैदियों का मनोरंजन ही नहीं, बल्कि उन्हें आध्यात्मिक संदेश, प्रवचन, योग आदि भी सिखाये जाएंगे।

कैदियों को प्रेरणादायक कार्यक्रम और देश भक्ति से भरी फिल्में भी दिखायी जाएंगी।उन्होंने कहा कि जेलों में माडय़ूलर किचेन की भी व्यवस्था की जा रही है जिसके तहत जेलों में बंद कैदियों को अब जेल की रसोई में खाना पकाने से निजात मिलने वाली है। जेलों में आधुनिक मशीनों से खाना पकाने की व्यवस्था की जा रही है। फिलहाल प्रदेश की 25 जेलों में यह सुविधा प्रदान की गई है और शीघ्र ही सभी 72 जेलों में वाली है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper