अब डीएल बनाने से पहले पढ़ना होगा सड़क सुरक्षा का पाठ

लखनऊ ब्यूरो: अब आरटीओ कार्यालय में लाइसेंस बनवाने के लिए जाने पर आवेदक को 15 मिनट तक सड़क सुरक्षा का पाठ पढ़ाया जाएगा। यातायात नियमों की जानकारी दी जाएगी। इसके बाद ही लाइसेंस का टेस्ट लिया जाएगा। प्रदेश के दर्जनभर आरटीओ कार्यालयों में सड़क सुरक्षा के मद्देनजर कार्यक्रम शुरू किया जाएगा। जल्द ही परिवहन मंत्री इस योजना पर विचार कर हरी झंडी दिखाएंगे। इस योजना को ग्रीन सिग्नल मिलना इसलिए तय माना जा रहा है क्योंकि इसमें परिवहन विभाग का कुछ खर्च भी नहीं होगा और लोग जागरूक हो जाएंगे।

सड़क सुरक्षा के तहत लोगों को जागरूक करने के लिए परिवहन विभाग कभी अखबार में विज्ञापन तो कभी वर्कशॉप, कभी पैम्फलेट बांटकर तो कभी चेकिंग अभियान चलाकर लोगों को जागरूक करने के साथ ही उन पर नकेल कसने की कोशिश करता है, लेकिन सड़क हादसों में किसी भी तरह की कमी नहीं आ रही है। प्रदेश के 6 जोन में पब्लिसिटी वैन चलाकर भी लोगों को जागरूक किया जा रहा है लेकिन स्थिति जस की तस है।

यह परिवहन विभाग के लिए चिंता का सबब बनता जा रहा है। इसके पीछे कारणों का पता लगाया गया, तो सामने आया कि बिना यातायात और सड़क सुरक्षा के नियमों की जानकारी के ही आरटीओ कार्यालय से नौसिखियों के भी धड़ाधड़ लाइसेंस जारी हो रहे हैं। यही सड़क पर उतरकर हादसों को बढ़ावा दे रहे हैं। अब इसके लिए एक अलग तरह की मुहिम शुरू की जा रही है।

जल्द होंगे समझौते पर हस्ताक्षर

परिवहन विभाग और एक गैर सरकारी संगठन के बीच जल्द ही आरटीओ कार्यालय में 15 मिनट तक सड़क सुरक्षा का पाठ पढ़ाये जाने वाले समझौते पर हस्ताक्षर होंगे। सड़क सुरक्षा पर परिवहन मंत्री गंभीर हैं, इसलिए जल्द ही यह योजना धरातल पर उतर आएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper