अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का दावा- खत्म होने वाली है भारत-पाकिस्तान में टेंशन

न्यूयार्क: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादी संगठन जैश-ए -मोहम्मद के हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के 40 जवानों के शहीद होने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ा तनाव जल्द खत्म होने की उम्मीद जताई है। ट्रंप ने हनोई में उत्तर कोरिया के शीर्ष नेता किम जोंग उन के साथ दूसरे शिखर सम्मेलन के बाद कहा कि उनके पास भारत और पाकिस्तान से कुछ ’यथोचित अच्छी’ खबर है। उम्मीद है कि दोनों देशों के बीच जारी तनाव जल्द ही खत्म होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच दशकों से यह तनाव बना हुआ है जिसके जल्द ही खत्म होने की उम्मीद है। उन्होंने हालांकि इसके बारे में विस्तृत जानकारी नहीं दी। अमेरिका का दावा है कि इस सब में वह मध्यस्थ की भूमिका निभा रहा है।

विंग कमांडर अभिनंदन का बाल भी बांका नहीं कर सकता पाकिस्तान, यह है बड़ी वजह

अमेरिका ने हाल में दोनों देशों को सीमा पार सैन्य गतिविधियों को बंद करने और तनाव कम करने के लिए तत्काल सीधा संवाद समेत सभी आवश्यक कदम उठाने को कहा था। भारत और पाकिस्तान से स्थिरता की ओर लौटने की कोशिशें करने की अपील करते हुए अमेरिका ने कहा था कि पाकिस्तान को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबद्धताओं का पालन करना चाहिए और आतंकवादियों को सुरक्षित पनाहगाह मुहैया नहीं कराना चाहिए तथा उनके फंड भी रोक देने चाहिए।

भारतीय सेना की जानकारी जुटाने के लिए अब पाकिस्तान ने शुरू किया ये घिनौना काम, आप भी रहे सतर्क

गौरतलब है कि 14 फरवरी को हुए पुलवामा हमले के 13 दिन बाद मंगलवार को भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में हवाई हमले कर आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सबसे बड़े प्रशिक्षण शिविर को ध्वस्त कर दिया। इसके अगले दिन बुधवार को एक पाकिस्तानी विमान ने भारतीय वायु सीमा में घुसने का प्रयास किया जिसे भारतीय वायु सेना ने मार गिराया लेकिन इस दौरान एक भारतीय विमान भी दुर्घटनाग्रस्त हो गया और उसके पायलट विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को गिरफ्तार कर लिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper