अयप्पा मंदिर तीर्थयात्रा के पहले 10 दिनों में 39 करोड़ से अधिक की कमाई

पथानामथिट्टा: केरल के सबरीमला में अयप्पा मंदिर की वार्षिक तीर्थयात्रा के पहले दस दिनों में 39.68 करोड़ रुपये की कमाई हुई है। त्रावणकोर देवास्वोम बोर्ड के अध्यक्ष एन वसु ने यहां कहा कि पिछली तीर्थयात्रा के दौरान प्राप्त हुई आय 21.12 करोड़ रुपये थी।

मंदिर के प्रसिद्ध प्रसाद अरावना की गुरुवार तक 15.47 करोड़ रुपये की बिक्री हुई है। पिछली तीर्थयात्रा के दौरान इसी अवधि तक अरावना की 6.72 करोड़ रुपये की बिक्री हुई थी। हुंडी से 13.76 करोड़ रुपये का संग्रह हुआ है पिछले वर्ष इस अवधि में इससे 8.34 करोड़ रुपये का संग्रह हुआ था। वसु ने कहा कि इस अवधि में मंदिर में भक्तों की भारी भीड़ जुटी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper