अलहदा अमित पाठक

अक्सर लोग पुलिस की वर्दी देखकर सहम जाते हैं, लेकिन पुलिस अफसरों की दरियादिली के किस्से भी कम नहीं हैं। अब मुरादाबाद के एसएसपी अमित पाठक को ही ले लीजिए। उनकी मेहनत के चलते करीब 10 बरस पहले सड़क हादसे में घायल होने के बाद से कोमा में गए सिपाही की पत्नी को 34,632 रुपए पेंशन मिलने लगी।

अमित पाठक ने आगरा में अपनी तैनाती के दौरान सिपाही की पत्नी को पेंशन दिलाने का बीड़ा उठाया था और मुरादाबाद ट्रांसफर होने के बाद भी लगातार कोशिश जारी रखी। दरअसल, आगरा के हरीपर्वत के खंदारी निवासी सिपाही जितेंद्र राजपूत कानपुर के रमाबाई नगर थाने में तैनाती के दौरान 7 नवम्बर, 2009 को ड्यूटी के दौरान सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप घायल होकर कोमा में चले गए थे।

छुट्टियां खत्म होने के बाद जितेंद्र का वेतन रोक दिया गया और परिवार भुखमरी की कगार पर पहुंच गया। करीब डेढ़ साल पहले सिपाही की पत्नी उमा ने आगरा के तत्कालीन एसएसपी अमित पाठक से अपनी परेशानी बताई। इसी के बाद अमित पाठक ने पेंशन दिलाने का बीड़ा उठाया।

E-Paper