अहंकार में डूबी है भाजपा, 2019 में 100 सीटें बचाने में छूट जाएंगे पसीने: शिवसेना

मुंबई: शिवसेना ने लोकसभा उपचुनाव में मिली हार को लेकर भाजपा पर निशाना साधा है। अपने मुखपत्र में उसने कहा है कि 2019 में भाजपा के पास 282 सीटें नहीं बचेंगी। उसे 100 सीटें बचाने में भी पसीने छूट जाएंगे। बता दें कि कांग्रेस के राजस्थान उपचुनाव जीतने के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने कहा था कि अब कांग्रेस को केवल उपचुनाव लड़ना चाहिए।

उनके इस बयान का शिवसेना ने उल्लेख किया और कहा कि भाजपा को अहंकार और अपने सहयोगियों को त्यागने के कारण उत्तर प्रदेश और बिहार उपचुनाव में हार मिली है। कांग्रेस को भी अहंकार के कारण हार का सामना करना पड़ा था। शिवसेना के मुखपत्र में संकेत दिया गया है कि पार्टी किसी गैर-भाजपा गठबंधन में भी शामिल हो सकती है। उसमें लिखे संपादकीय में शिवसैनिकों से कहा गया है कि हमें उन लोगों को स्वीकार करना चाहिए, जिन्होंने भाजपा को नकार दिया है।

इस लेख के मुताबिक, बीजेपी ने एक छोटे राज्य त्रिपुरा में जीत हासिल की और पूरी पार्टी जश्न में व्यस्त हो गई। बीजेपी का यह जश्न खत्म होता, इससे पहले उत्तर प्रदेश के लोगों ने उसे नकार दिया। भाजपा कह रही है कि उपचुनाव से देश के मूड की तुलना नहीं की जा सकती। लेकिन केंद्र में मोदी सरकार के आने के बाद हुए 10 लोकसभा उपचुनावों में से 9 में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा है।

बीजेपी लोकसभा में 282 सीटों से 272 पर आ गई है। ऐसे में लग रहा है कि भाजपा को 2019 में 100 से 110 सीटें मिलेंगी। लोगों की आंखों से मोदी लहर का पानी सूख चुका है और वह अब स्पष्ट रूप से चीजों को देख सकते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper