आज देश में विचारधारा की लड़ाई है: राहुल गांधी

अजमेर: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) पर नफरत फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा कि आज देश में विचारधारा की लड़ाई है। गांधी ने आज राजस्थान के अजमेर में कायड़ विश्राम स्थली पर ‘ सत्याग्रह छावनी ‘ पांडाल में कांग्रेस सेवादल के राष्ट्रीय महाअधिवेशन के समापन सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि एक तरफ आरएसएस और भाजपा नफरत फैलाते हैं, वे हाफ पेंट पहनकर लाठी उठाते हैं, दूसरी ओर कांग्रेस की विचारधारा है जो नफरत और प्यार से देश को जोड़ने का काम करती है। दोनों में यही फर्क है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंती नरेंद्र मोदी बड़े बड़े भाषण देते हैं। लाल किले से कहते हैं कि कांग्रेस ने 70 साल में कुछ नहीं किया। उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि उनका मतलब है कि गांधीजी, सरदार पटेल, नेहरूजी अम्बेडकर जी ने कुछ नहीं किया। मोदी आये और मानो उन्होंने ही हिन्दुस्तान में काम शुरू किया हो। उन्होंने कहा कि यही इनकी सोच है। जब यह ऐसा कहते हैं तो वह कांग्रेस का ही अपमान नहीं है बल्कि देश के किसानों, मजदूरों, छोटे दुकानदारों सहित देश के हर नागरिक का अपमान हैं।

उन्होंने कहा कि जो देश में होता है वह देश का किसान करता है, मजदूर करता है, युवा करता है, महिलाएं करती हैं। कांग्रेस के लिए हिंदुस्तान समंंदर की तरह है लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए हिंदुस्तान ‘ उत्पाद ‘ की तरह है जो गरीब किसान का पैसा लेकर देश के चुनिंदा पंद्रह बीस उद्योगपतियों को देने का काम करते है। हम चाहते हैं कि किसान, गरीब, मजदूर एवं आम जनता को न्याय मिले, उनका उन्हें हक मिले लेकिन मोदी गरीबों का सारा पैसा अंबानी, मेहुल चोकसी जैसे लोगों की जेब में डाल देते हैं।

गांधी ने कहा कि संसद में मोदी ने मेरे खिलाफ, मेरे परिवार के खिलाफ, कांग्रेस के खिलाफ जमकर जहर उगला लेकिन मैनें भरी संसद में उनसे गले मिलकर यह सिद्ध कर दिया कि नफरत को नफरत नहीं काट सकती, नफरत को प्यार से ही काटा जा सकता है और यह मैनें एक सेकंड में जब कर दिखाया तो स्वयं मोदी हक्के बक्के रह गए। उन्होंने नफरत फैलाने वाले ऐसे लोगों को आने वाले चुनाव में सबक सिखाने की भी अपील की।

इससे पहले राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष के नाते सेवादल के कार्यकर्ताओं से माफी मांगी और कहा कि कांग्रेस परिवार में जो आदर आपको मिलना चाहिए था वह नहीं मिला। उन्होंने बिहार के एक मुख्य संगठन की इस शिकायत पर कि बिहार में कांग्रेस की बड़ी बैठक में उन्होंने कांग्रेस के सभी अग्रिम संगठनों का नाम लिया, लेकिन सेवादल को नजरअंदाज कर दिया गया, पर व्यक्तिगत तौर पर माफी मांगते हुए कहा कि भविष्य में ऐसा नहीं होगा। सेवादल कांग्रेस के लिए आदर एवं सम्मान का संगठन है। यह कांग्रेस की रीढ़ की हड्डी है और कांग्रेस के लिए सबसे जरुरी एवं महत्वपूर्ण संगठन है।

लेकिन इसके साथ ही उन्होंने सेवादल के कार्यकर्ताओं से शिकायत भी की कि उन्हें जनता के साथ मिलकर जो लड़ाई लड़नी चाहिए थी उस प्रकार की भूमिका उन्होंने अदा नहीं की। गांधी ने कहा कि सेवादल को अब एक नई शुरुआत करनी है। उन्हें मजबूत संगठन बनकर दिखाना है। देश के लाखों युवाओं को जोड़ना है और आरएसएस के खिलाफ पूरे दम के साथ उनकी नफरत वाली विचारधाराओं को प्यार से मिटाना है। वे जहाँ आग लगाए उसे प्यार से बुझाना है। राहुल गांधी ने सेवादल का आह्वान किया कि देश में कहीं भी आंधी, तूफान, संकट आए सेवादल कार्यकर्ता को सबसे पहले जनता के बीच पहुंचकर उनका हमदर्द बनना है। उन्होंने कहा कि सेवादल कांग्रेस का अहम हिस्सा है, वह देश में हर जगह सेवादल को देखना चाहते हैं। गांधी ने कहा कि लोकसभा चुनाव में सेवादल की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper