आज फिर से खुलेंगे सबरीमाला मंदिर के कपाट, 5000 जवान सुरक्षा में तैनात

दिल्ली ब्यूरो: केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर के द्वार आज से फिर खुल रहे हैं। शाम पांच बजे कपाट खोलने का समय है। ये कपाट मंगलवार रात 10 बजे तक खुले रहेंगे। महिलाओं के प्रवेश को लेकर जारी विरोध को देखते हुए केरल के कई इलाकों में 3 दिन के लिए धारा 144 लगाई जाएगी। साथ ही टकराव से बचने के लिए पूरे इलाके को छावनी में तब्दील किया जाएगा।

इसके लिए शनिवार शाम से ही पुलिस के 5000 जवान तैनात कर दिए गए हैं। पिछले महीने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद 10 से 50 वर्ष की आयु की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया गया था। कोर्ट के आदेश के खिलाफ राज्य में काफी हिंसक प्रदर्शन हुए थे।इससे सबक लेते हुए प्रशासन ने 4 से 6 नवंबर तक सन्नीधनम, पंबा, निलाक्कल और इलावंकुल में धारा 144 लगाने का फैसला किया है। मंदिर में दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का आगमन शुरू हो चुका है।

बाबा रामदेव की ‘नेक सलाह’ और गृहस्थ हिंदू का धर्म संकट..?

ताजा आंकडों के अनुसार, इस मामले को लेकर गिरफ्तार किए गए लोगों की संख्या बढ़कर 3,505 हो गई है। विभिन्न थानों में 529 मामले दर्ज किए गए हैं। मंदिर 5 नवंबर को खुलेगा। इसके बाद 16 नवंबर को करीब दो महीने के नियमित वार्षिक तीर्थयात्रा के लिए खुलेगा। बॉक्स भाजपा फैसले के खिलाफ सड़क पर मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर विवाद एक फिर से बढ़ने की बात कही जा रही है। एक ओर सरकार जहां अदालत के फैसले को हर हाल में लागू करने की तैयारी कर रही है वहीं भाजपा समेत अन्य दल इस फैसले के खिलाफ खुलकर सड़क पर उतर आए हैं।

भाजपा ने इस मामले में मंगलवार से ही आंदोलन शुरू कर दिया है। भाजपा का दावा है कि आगामी रथ यात्रा में पार्टी को बिशप और मौलानाओं का भी समर्थन है। भाजपा की यह रथयात्रा कासरगोड से सबरीमला तक 8 नवंबर से निकाली जाएगी। कहा जा रहा है कि 16 नवंबर को जब मंदिर के दरवाजे नियमित वार्षिक तीर्थयात्रा के लिए खोले जाएंगे तब भाजपा अध्यक्ष अमित शाह कार्यक्रम में शामिल हो सकते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper