आज से पर्यटकों के लिए खुले कश्मीर के दरवाजे, हटाई गईं पाबंदियां

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के पहले से ही पर्यटकों के आने पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया गया है। गुरुवार यानि आज से पर्यटक घाटी में खूबसूरत वादियों का मजा ले सकेंगे। आतंकी हमले के अलर्ट के बाद 2 अगस्त को सभी पर्यटकों को कश्मीर छोड़ने के निर्देश दे दिए गए थे और इसके बाद से ही घाटी में पर्यटन पर पूरी तरह से रोक लग गई थी। धीरे-धीरे सामान्य होते हालात के साथ ही अब पर्यटकों के लिए भी घाटी ने दरवाजे खोल दिए हैं।

जम्मू-कश्मीर सरकार ने अनुच्छेद 370 हटाने के पहले पर्यटकों को कश्मीर छोड़ने की अडवाइडरी वापस ले ली है। अडवाइजरी वापस लेने के साथ ही राज्य सरकार ने सैलानियों को सभी जरूरी सहायता देने का ऐलान किया है। राज्यपाल ने इस परामर्श को वापस लेने को दस अक्टूबर तक तामील कराने का निर्देश दिया था। जम्मू कश्मीर प्रशासन ने दो अगस्त को एक सुरक्षा परामर्श जारी कर कश्मीर घाटी में आतंकवादी हमले की आशंका का हवाला देते हुए अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों से यथाशीघ्र कश्मीर छोड़कर चले जाने को कहा था। इस परामर्श के कुछ दिन बाद पांच अगस्त को केंद्र ने संविधान के अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को निरस्त करने और जम्मू कश्मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने की घोषणा की थी।

एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि राज्यपाल ने यहां सलाहकारों और मुख्य सचिव के साथ ‘स्थिति एवं सुरक्षा समीक्षा बैठक में यह निर्देश दिया। प्रवक्ता ने बताया कि राज्यपाल को यह भी बताया गया कि प्रखंड विकास परिषद (बीडीसी) के चुनाव पार्टी आधारित हैं, इसलिए विभिन्न दलों के प्रतिनिधिमंडल को जेल में अपने पार्टी अध्यक्षों (जो भी जेल में बंद हैं) से एक बार मिलने की इजाजत दी जा रही है ताकि वे चुनाव पर निर्णय ले सकें और किसी को उम्मीदवारों को मंजूर करने के लिए अधिकृत कर सकें। जम्मू कश्मीर में 24 अक्टूबर को बीडीसी चुनाव हैं। प्रवक्ता ने कहा, ”राज्यपाल ने निर्देश दिया कि पर्यटकों को घाटी छोड़कर चले जाने का गृह विभाग का परामर्श तत्काल वापस लिया जाए। ऐसा दस अक्टूबर को तत्काल प्रभाव से किया जाएगा।”

रात के समय डॉक्टर्स नहीं कर सकते शव का पोस्टमार्टम, वजह बेहद हैरान कर देने वाली…

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper