आधी रात को सफेद साड़ी पहने पेड़ की डाल पर सिकुड़कर बैठी थी ‘वो’, देखते ही चीखने लगे लोग

नई दिल्ली। भूत या प्रेत के बारे में बहुत से लोगों के बहुत से किस्से सुन रखें होंगे लेकिन देखा किसने है? हालांकि कई लोग यह दावा करते हैं कि हमने भूत देखा है। आपको जानकर हैरानी होगी कि, गुजरात-राजस्थान बॉर्डर पर भूत से जुड़ा एक आंखों देखा मामला सामने आया है। यहां के गोटा गांव के पास फैले जंगलों में यह अफवाह है कि यहां भूतनी घूमती है। कई लोगों ने दावा किया है कि उन्होंने एक लडक़ी को पेड़ पर बैठे देखा जो अजीब आवाजें निकालती हैं।

यह अब तक का, भूत से जुड़ा एक अजीब और आंखों देखा मामला सामने आया है। एक अंग्रेजी मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अमीरगढ़ बॉर्डर चेकपोस्ट से यह घटना पिछले दिनों सामने आई थी। यहां के लोगों ने यह बात जब पुलिस को बताई तो पुलिस के जवानों ने इस बात पर विश्वास नहीं किया मगर जब पुलिस के कई जवानों ने भी इस लडक़ी को पेड़ पर बैठे देखा तो सबके हाथ पैर फूल गए और डर की वजह से लोगों ने अपने घरों के दरवाजे बंद कर दिए।

इसके बाद, पुलिस ने शिकारवेरी गांव से लापता 18 साल की लडक़ी को ढूंढने के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया था। पुलिस की मानें तो, यह लडक़ी 11 अक्टूबर से गायब थी। कुछ लोगों का मानना था कि पेड़ पर बैठी लडक़ी का, लापता हुई लडक़ी से कुछ लेना-देना हो सकता है। पुलिस का भी कहना है कि, जब पुलिस ने सर्च ऑपरेशन शुरू किया तब वहां उन्हें पेड़ पर बैठी लड़की को देखा, उनका कहना था कि, जब उन्होंने पेड़ पर बैठे साए पर टॉर्च मारी तो लड़की वहां सिकुड़कर बैठी हुई थी। पुलिस ने लड़की से पेड़ से उतरने काफी मिन्नतें की जिसके बाद कड़ी मशक्कत के बाद लड़की को नीचे उतारा गया और उसे उसके भाई को सुरक्षित सौंप दिया गया। इस घटना के बाद गांव वालों को यह बात समझ आई कि गांव में कोई चुड़ैल नहीं है।

फतेहपुर में आपत्तिजनक हालत में पकड़ा गया प्रेमी जोड़ा, लड़की ने आत्महत्या की

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper