आपके जन्म की तारीख खोलती है आपकी सफलता के राज़

दोस्तों इस दुनिया में हर कोई सफल होना चाहता है हर कोई धन कमाना चाहता है। लेकिन जैसा हम चाहे अगर वैसा हो जाए तो फिर बात ही क्या सफल होने और धन कमाने के लिए मेहनत के साथ-साथ किस्मत का मेल होना भी बहुत जरूरी होता है।

अंक ज्योतिष के हिसाब से कब मिलेगी आपको सफलता

मुलांक 1

अगर आपका जन्म किसी भी महीने की 1 तारीख को हुआ है तो आपके जीवन का 22वा साल आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होगा यह वह साल होता है जब उसके जीवन में धन का आगमन शुरू हो जाता है।

मुलांक 2

अगर आपके जन्मदिन की तारीख का अंक 2 है जिसमे 2, 11, 20 और 29 है तो फिर आप के लिए 24 साल बहुत ही लक्की साबित हो सकता है।

मूलांक 3

जो 3 अंक वाले लोग होते हैं जिनके जन्म की 3, 12, 21 और 30 तारीख होती है उन लोगों को सफलता के लिए शायद थोड़ा लंबा इंतजार करना पड़ता है। अंक ज्योतिष के हिसाब से इन तारीखों में जन्मे लोगों को 32 साल में सफलता मिलती हैं।

मुलांक 4

अगर आप 4 अंक वाले हैं यानि आपके जन्म की तारीख 4, 13, 22 और 31 है। तो आपका मूलांक 4 है ऐसे लोगों को मेहनत से सफलता जरूर मिलती है। लेकिन अंक ज्योतिष के हिसाब से 4 मूलांक वाले लोगों को 36 या 42 साल में सफलता हासिल होती है।

मूलांक 5

जिनका अंक 5 है उनकी जन्म की तारीख 5, 14 या फिर 23 होती है इस तारीख को जन्म लेने वाले लोग 32 साल की उम्र में सफलता और काफी सारा धन हासिल कर लेते हैं।

मूलांक 6

जिनके जन्म की तारीख 6, 15 और 24 है तो इन लोगों के लिए 25वा साल बहुत ही शुभ होगा। इस साल में इनको किस्मत का साथ मिलता है।

मूलांक 7

अगर 7 अंक वालों की बात की जाए तो 7, 16 और 25 को किसी भी महीने में जन्म लेने वाले के लिए साल 38 और 44वा साल शुभता का प्रतीत होता है।

मूलांक 8

यानी जिनके जन्म की तारीख 8, 17, या 26 होती है अंक ज्योतिष के हिसाब से इन लोगो की किस्मत 36 या फिर 42 साल में चमकती है।

मूलांक 9

अगर आपका जन्म 9,18 या फिर 27 को हुआ है। तो आपका अंक 9 है तो फिर आप को 28 साल में पैसा और नाम मिलता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper