आरपीएफ ने देशभर में 387 टिकट दलालों को दबोचा

नई दिल्ली: रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने अपने ‘ऑपरेशन थंडर’ के तहत पूरे देश में 141 नगरों से 387 दलालों को दबोचा, जिनके पास से करीब 33 लाख रुपये मूल्य के 22,000 रेल टिकट बरामद किए गए। यह जानकारी शुक्रवार को आरपीएफ ने दी। आरपीएफ के अनुसार, देशभर में गुरुवार को एक ही समय ऑपरेशन थंडर चलाया गया, ताकि उसका अधिकतम प्रभाव सुनिश्चित हो। अभियान में खुलासा हुआ कि गिरफ्तार किए गए दलालों ने पहले ही 3,24,00,000 रुपये से अधिक के टिकट खरीद लिए थे।

आरपीएफ के महानिदेशक अरुण कुमार ने बताया, “हमारे साइबर सेल को मालूम हुआ कि ग्रीष्मावकाश के दौरान टिकटों की बिक्री नई ऊंचाइयों को छू गई हैं, क्योंकि दलालों ने देशभर में आईआरसीटीसी की वेबसाइट से छेड़छाड़ की थी। हमने 141 नगरों में 276 जगहों पर छापेमारी करके 387 दलालों को गिरफ्तार किया।”

जांच में खुलासा हुआ कि दलालों ने भारी कमाई करने के मकसद से आईआरसीटीसी की वेबसाइट में छेड़छाड़ करके तत्काल श्रेणी में टिकट बुक करने के लिए अवैध सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया था। आरपीएफ ने बताया कि इस अनुचित प्रकिया से आम आदमी को तत्काल टिकट बुक करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।

आरपीएएफ के अनुसार, ऑपरेशन थंडर का मकसद ऐसे दलालों पर शिकंजा कसना है। गिरफ्तार किए गए लोगों के खिलाफ कानून की संबद्ध धाराओं के तहत 375 मामले दर्ज किए गए हैं। देशभर में आरपीएफ की टीम को टिकट बुकिंग पर नजर बनाए रखने को कहा गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper