आर्टिकल 15′ में आयुष्मान की एक्टिंग की प्रशंसा

मुंबई: फिल्म ‘आर्टिकल 15’ में अभिनेता आयुष्मान खुराना की एक्टिंग की खूब प्रशंसा हो रही है। दर्शक फिल्म और क्रिटिक्स दोनों ही फिल्म की तारीफ कर रहे हैं। आयुष्मान फिल्म में एक नए लेकिन कड़े आइपीएस की भूमिका निभा रहे हैं जो समाज में जाति व्यवस्था के कारण लोगों की दयनीय हालत देखकर दंग है। आयुष्मान ने इस किरदार के साथ जुड़ी अपनी भावनाएं शेयर की हैं। आयुष्मान ने कहा ‘मैं वर्दी वाले पुरुष और महिलाओं का बहुत सम्मान करता हूं।

जब मैंने वर्दी पहनी तो मेरे आसपास का ऑरा बदल गया। मेरी बॉडी लैंग्वेज बदल गई। फिल्म एक बाहरी के नजर से ग्रामीण भारत की जाति व्यवस्था को दिखाती है। पहली बार मैं परिस्थितियों का शिकार नहीं बल्कि मास्टर के किरदार में हूं।’ आयुष्मान का कहना है कि ‘आर्टिकल 15’ में पुलिस का किरदार निभाना उनके लिए काफी इमोशनल था। फिल्म से उम्मीदों के बारे में पूछने पर आयुष्मान कहते हैं कि इसके बाद इस मुद्दे पर चर्चा बढ़नी चाहिए।

भारत रातोंरात नहीं बदल सकता है लेकिन फिल्मों से कम से कम ऐसे विषयों पर चर्चा शुरू तो की जा सकती है।आयुष्मान ने फिल्म की तैयारियों के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि उन्होंने डॉ. बी.आर. आंबेडकर द्वारा बताए गए जाति भेद के बारे में खूब पढ़ा। आयुष्मान कई रातें जागकर हमारे देश में शोषित लोगों के बारे में पढ़ते रहे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper