आवाज देकर अब सुन सकते हैं रेडियो भी

नई दिल्ली: आप अपने ड्राइंग रूम या किचेन में भी अपने आवाज से आदेश देकर रेडियो का अपना मनपसंद स्टेशन सुन सकते हैं। आल इंडिया रेडियो ने अमेजन के साथ एक ऐसा करार किया है जिसके तहत आप अलेक्सा उपकरण को आदेश देकर रेडियो स्टेशन पर चौदह भाषाओं में कार्यक्रम मुफ्त सुन सकेंगे।सूचना प्रसारण राज्य मंत्री राज्यवर्धन राठौड़ ने आज यहाँ आकाशवाणी भवन में अलेक्सा उपकरण को रिलीज किया। इस मौके पर प्रसार भारती के अध्यक्ष ए सूर्यप्रकाश और मुख्य कार्यकारी अधिकारी शशिशेखर तथा दूरदर्शन की निदेशक सुप्रिया साहू और आल इंडिया रेडियो के महानिदेशक शहरयार भी मौजूद थे।

कुत्ते को कुत्ता कहने पर दो पक्षों में ‎विवाद

राठौड़ ने कहा कि अब जिन्दगी सरल होती जा रही है। जिन चीजों में पहले समय लगता था, वह अब उपकरण के जरिये कम समय में हो जाता है। अमेजन ने यह उपकरण बनाया है जिससे रेडियो की 17 सेवाएँ चौदह भाषाओं में सुनी जा सकती हैं। रेडियो एक लोकप्रिय माध्यम है और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम के जरिये यह और लोकप्रिय हो रहा है। रेडियो सूचना देने के साथ-साथ लोगों का मनोरंजन भी करता है। लोग अपनी भाषा के चुनने के लिए अब इस माध्यम से बोलकर आदेश दे सकते हैं।

उन्होंने लोगों के सामने अलेक्सा उपकरण को बोलकर हिन्दी में आदेश दिया, अलेक्सा अब रेडियो पंजाबी सुनाओ तो पंजाबी गाने बजने लगे, जब उन्होंने बंगला में गाने सुनाने का आदेश दिया तो बंगला में गाने बजने लगे। सूर्यप्रकाश ने कहा कि यह आल इंडिया रेडियो की नयी उपलब्धि है। लोग पूरी दुनिया में किचेन और ड्राइंग रूम से भी आवाज से आदेश देकर इस उपकरण से रेडियो सुन सकेंगे। इसमें लोग समाचार के अलावा रेडियो के अभिलेखागार के पुराने कार्यक्रम भी सुन सकेंगे। आकाशवाणी के महानिदेशक शहरयार ने कहा कि यह डिजिटल इंडिया की तरफ एक और कदम है। पूरी दुनिया में कहीं से भी मलयालम, तेलुगू, असमी, बंगला जैसी भाषाओं में रेडियो अब अलेक्सा से सुना जा सकता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper