आवारा गाय को जो गोद लेगा उसे सम्मानित करेगी राजस्थान सरकार

जयपुर: गली में घूमने वाली गाय को जो गोद लेगा उसे राजस्थान सरकार सम्मानित करेगी। जो भी लोग गली में घूमने वाली गयों को गोद लेंगे उन्हें राजस्थान की कांग्रेस सरकार गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर सम्मानित करेगी। यह बात सरकार के द्वारा जिला कलेक्टरों को दिए आदेश में कही गई है।

राजस्थान सरकार के अधिनस्त गोपालन निदेशालय, जो गायों के कल्याण के बारे में चिंता करता है, उसने कहा है कि वो धर्मार्थ और संवेदनशील नागरिक, जिन्होंने स्ट्रेट(गली में घूमने वाली) गायों को गोद लिया है, उसे जिला कलेक्टर द्वारा स्वतंत्रता और गणतंत्र दिवस पर सम्मानित किया जाएगा। कांग्रेस सरकार के सत्ता में आने के बाद 28 दिसंबर को ये ऑर्डर जारी हुआ है।

इससे पहले जब राज्य में भाजपा सरकार भी तब राजस्थान ऐसा पहला राज्य बना था जहां कोई गाय मंत्री बना। ये पद ओटाराम देवासी को दिया गया था। अब प्रमोद भाया राज्य के नए गाय मंत्री हैं। इस आदेश में जिला कलेंक्टरों को कहा गया है कि वह जनता, दानशील लोग, अधिकारी और सामाजिक कार्यकतार्ओं को गायों को गोद लेने के लिए प्रेरित करें।

उन्होंने कहा जो लोग भी गाय गोद लेना चाहते हैं, वह स्थानीय गौशालाओं द्वारा तय की गई एक विशिष्ट राशि जमा कर सकते हैं और किसी भी समय गौशाला आकर जानवरों को देख सकते हैं। अगर कोई उनमें से किसी गाय को गोद लेकर अपने घर ले जाना चाहता है तो ले जा सकता हैं।

चुनावों से पहले भी कांग्रेस सरकार ने गायों की बेहतरी का वादा किया था। गायों को गोद लेने वाला ये आवेदन जिला कलेक्टर, जॉइंट डायरेक्टर ऑफ एनिमल हस्बेंड्री, सूचना और जनसंपर्क विभाग और सब डिविजनल अफसरों को सौंपा जा सकता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper