आज़म खां पर चलेगा मुकदमा, सेना के प्रति की थी अमर्यादित बयानबाजी

लखनऊ: सेना के जवानों पर अमर्यादित बयान देने पर सपा के वरिष्ठ नेता और यूपी के पूर्व कैबिनेट मंत्री आज़म खां पर मुकदमा चलने की अनुमति मिल चुकी है। आजम खां के खिलाफ रामपुर में मुकदमा चलेगा। आजम के बयान पर एक साल पहले बीजेपी नेता के बेटे आकाश सक्सेना ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। रामपुर पुलिस अधीक्षक विपिन ताडा ने बताया कि शासन से अनुमति मिल गई है। आकाश सक्सेना ने रिपोर्ट में कहा था कि सेना के जवान देश की सुरक्षा में अपने प्राणों की आहूति देते हैं। उनकी वजह से देश सुरक्षित है।

देश की एकता और अखंडता कायम है। सैनिकों के प्रति आजम का बयान मन को आघात पहुंचाने वाला है। ऐसे बयान सेना का मनोबल गिराते हैं। उनकी तहरीर पर 30 जून 2017 को पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया था। दरअसल, जून 2017 में सपा विधायक आजम खां अपने गृहनगर रामपुर में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। वह पार्टी कार्यकर्ताओं के सामने केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की योगी सरकार पर भड़ास निकाल रहे थे। बोलते-बोलते उनकी जुबान बहक गई और अचानक आजम खां वो बोल गए, जिसकी कोई कल्पना नहीं कर सकता।

आजम खां सरकार के खिलाफ जहर उगल रहे थे, लेकिन अचानक उन्होंने भारतीय सेना के खिलाफ बयानबाजी शुरू कर दी। उन्होंने बुलेट से समस्याओं के समाधान पर टिप्पणी करते हुए कहा था जम्मू-कश्मीर और मिजोरम जैसे राज्यों में महिलाओं ने फौजियों से रेप का बदला लिया है। जवानों के जिस्म के जिस हिस्से से महिलाओं को दिक्कत थी, वो उस हिस्से तक को काट ले गईं।आजम खान के इस बयान पर बवाल के बाद बीजेपी नेता के बेटे ने उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper