इच्छुक प्रवासी श्रमिकों के UP लौटने तक जारी रहेगा नि:शुल्क ट्रेनों और बसों का संचालन: योगी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि विभिन्न राज्यों से कामगारों/श्रमिकों की सुरक्षित वापसी के लिए प्रदेश सरकार कृतसंकल्प है। योगी ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा सम्बंधित राज्य सरकारों से श्रमिकों/कामगारों की सूची उपलब्ध कराने का अनुरोध किया गया है, ताकि श्रमिकों/कामगारों की प्रदेश वापसी के लिए निःशुल्क ट्रेनों की व्यवस्था कराई जा सके।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे देश से कामगारों/श्रमिकों के लिए नि:शुल्क ट्रेनों का संचालन आगे भी तब तक जारी रहेगा, जब तक वापस आने के इच्छुक कामगार/श्रमिक प्रदेश लौट नहीं आते। उन्होंने बताया कि यूपी में केन्द्र और राज्य सरकार द्वारा नि:शुल्क ट्रेन एवं बस की व्यवस्था कर अब तक 27 लाख से अधिक कामगारों/श्रमिकों की सुरक्षित व सकुशल प्रदेश वापसी कराई गई है।

सीएम योगी ने स्वदेशी के प्रोत्साहन लिए एमएसएमई सेक्टर को बढ़ावा देने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि त्वरित निर्णय लें, ताकि निवेशक प्रदेश के विकास में भागीदारी के लिए प्रोत्साहित हों। संक्रमण से बचाव करते हुए तत्काल इमरजेंसी सेवाएं व जरूरी ऑपरेशन शुरू करें।

बैठक के दौरान यूपीसीडा के अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को नए लैंड बैंक की सम्भावनाओं व उपलब्धता के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि भूखण्डों के ऑनलाइन आवंटन की व्यवस्था यूपीसीडा की वेबसाइट के तहत निवेश मित्र के माध्यम से की जा रही है। आवेदन पत्रों का निस्तारण किया जा रहा है। जीआईएस मैपिंग के माध्यम से भूखण्डों के सम्बन्ध में कार्यवाही की जा रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper