इन रोगों में रामबाण का काम करती है मुलेठी, ऐसे करे इस्तेमाल

स्वाद में मीठी मलेठी में प्रोटीन और वसा भरपूर मात्रा में पाया जाता है। मुलेठी का इस्तेमाल नेत्र रोग , मुख रोग ,उदार रोग , कंठ रोग ,साँस विकार में किया जाता है।

मुलेठी का नाम तो आपने सुना ही होगा पर क्या आप जानते है मुलेठी आपके कई रोगो का इलाज भी कर सकती है। मलेठी कई रोगो के इलाज में रामबाण का काम करती है। स्वाद में मीठी मलेठी में प्रोटीन और वसा भरपूर मात्रा में पाया जाता है। मुलेठी का इस्तेमाल नेत्र रोग , मुख रोग ,उदार रोग , कंठ रोग ,साँस विकार में किया जाता है।

कान और नाक रोग में है लाभकारी –

मुलेठी कान और नाक के रोगो में काफी असरकारी है। मुलेठी के कवाथ से नेत्रों को धोने से नेत्र रोग दूर हो जाते है। इसके अलावा मुलेठी के इस्तेमाल से नेत्र ज्योति भी बढ़ती है। इसके अलावा मुलेठी कण के रोगो में भी काफी लाभकारी है।

हृदय रोग में भी है लाभकारी –

मुलेठी हृदय रोग में भी काफी लाभकारी है। मुलेठी के रोजाना इस्तेमाल से हृदय रोग में काफी लाभ होता है। 3-5 ग्राम मुलेठी तथा कुटकी चूर्ण को 15-20 मिश्री युक्त जल के साथ रोजाना सेवन करने से हृदय रोग में लाभ होता है।

त्वचा रोग में भी कर सकते है इस्तेमाल –

मुलेठी का उपयोग त्वचा रोग में भी किया जा सकता है। फोड़े पर मुलेठी का लेप लगाने से वे जल्दी पककर फूट जाते है। मुलेठी को तिल के साथ पीसकर उसमे घृत मिलकर घाव पर लगाने से घाव भर जाता है। इसके अलावा मुलेठी के उपयोग से उदर रोग में भी काफी लाभ मिलता है। मुलेठी का कवाथ बनाकर पीने से उदरशूल ,मिटता है। मुलेठी बात, पित्त ,कफ तीनो दोषों के उपचार में रामबाण का काम करती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper