इसे कहते हैं हवा में हवा टाइट होना, इस वीडियो में हंसी न आये तो पैसे वापस!

सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफार्म है, जहां आम आदमी प्रसिद्ध हो सकता है। पिछले दिनों स्टेशन पर गाना गाकर पैसे कमाने वाली महिला रानू मंडल का वीडियो वायरल हुआ था। संगीतकार हिमेश रेशमिया ने उन्हें पहला ब्रेक दिया। अब एक दूसरा वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें पैराग्लाइडिंग के वक्त पर बीत रही स्थिति के मनोभाव दिख रहे हैं।

वह बार-बार इंस्ट्रक्टर को लैंड करने के लिए कह रहा है। इसके लिए सौ-पांच सौ रुपये ज्यादा देने को भी तैयार है। छह मिनट का यह वीडियो देश ही नहीं बल्कि विदेश में भी खूब देखा जा रहा है। इस वीडियो में दिख रहे शख्स बांदा के टाइल्स कारोबारी विपिन साहू हैं। यह वीडियो सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफार्म पर वायरल हो रहा है।

उन्होंने कहा कि पैराग्लाइडिंग के इस वीडियो ने मेरी जिंदगी ही बदल दी। अब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लोग मुझे जानते हैं। शहर के किरन कॉलेज चौराहे के पास रहने वाले विपिन के मुताबिक जुलाई माह में वह अपने दोस्तों के साथ मनाली गए थे।

वहां दोस्तों के कहने पर पैराग्लाइडिंग की। शुरुआत में काफी उत्साहित था, लेकिन जैसे ही हवा में पहुंचा वैसे ही डर लगने लगा। वह बताते हैं कि उस वक्त मैं ट्रेनर से लैंडिंग कराने की गुहार लगा रहा था। वो अनुभव इतना खराब था कि बस भगवान से सुरक्षित घर पहुंचने की मिन्नत करता रहा। वहां से लौटकर जब वीडियो देखा तो खुद पर भी हंसी आई। छोटे भाई पवन ने इसे यू-ट्यूब पर अपलोड कर दिया। इसके बाद यह वायरल हो गया।

वह कहते हैं कि पैराग्लाइडिंग का अनुभव रोमांचक रहा लेकिन एक सीख भी दे गया कि जीवन में कभी ऐसा काम न करो जो तुम्हे न आता हो। वीडियो शूट करते वक्त कई बार लगा कि यही अंतिम मुकाम है। इसीलिए भगवान को याद कर रहा था। अंत में कहते हैं कि बेशक इस वीडियो से ही सही, लेकिन देश-विदेश में पहचान तो मिली। अब तक दस से अधिक देशों से वीडियो के बारे में जानकारी लेने के लिए फोन आ चुके हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper