इस एक सब्जी में है कई बड़ी बीमारियों का इलाज, फायदे गिनते-गिनते हो जाएंगे हैरान

आज के समय में लोग अपने स्वास्थ्य पर ज्यादा ध्यान नहीं दे पाते है ! ऐसे में हर घर में कोई न कोई किसी न किसी बीमारी से परेशान रहता है ! ये बात तो आप सभी जानते ही है की हरी सब्जियां हमारे स्वास्थ्य के लिए कितनी फायदेमंद होती है ! परन्तु क्या आप जानते है की एक ऐसी सब्जी भी इसमें शामिल है जोकि 300 बीमारियों को जड़ से मिटने में सहायता करती है ! इस सब्जी का नाम सहजन है कई स्थानों पर इस सब्जी को ड्रमस्टिक और मौरिंगा भी कहा जाता है!

आपको बता दे की सहजन हरे रंग की होती है और ये लम्बी डंडे जैसी होती है ! आपको ये जानकर हैरानी होगी की इस सब्जी में दूध से भी ज्यादा प्रोटीन और कैल्शियम पाया जाता है ! ये सब्जी खाने में जितनी टेस्टी होती है उतनी ही फायदेमंद होती है ! सहजन में विटामिन A, B1, B2, B3, B5, B6, B9, C कैल्शियम, आयरन, पोटैशियम, डाइटरी फाइबर,वाटर,कार्बोहाइड्रेट,प्रोटीन,सोडियम, जिंक और फास्‍फोरस जैसे पोषक तत्व पाए जाते है ! यह आपके शरीर के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होती है !

सहजन सब्जी के गजब के फायदे

 

1 – जानकारी के लिए बता दे की इस सब्जी में कैल्शियम की मात्रा सबसे ज्यादा अधिक होती है ! जो की हमारे शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होती है ! इसके अलावा ये सब्जी पैरों में दर्द, जकड़न, गठिया रोग, लकवा, दमा, पथरी जैसी समस्याओं से भी आपको छुटकारा दिलाता है.

2 – शुगर जैसी बीमारी को भी जड़ से ख़तम करती है अगर आप डायबीटीज के रोगी है तो ये आपके लिए एक रामबाण औषधि की तरह काम करती है!

3 – इस सब्जी में फाइवर की मात्रा अधिक रहती है ! इसी वजह से ये पाचन तन्त्र को भी मजबूत बनाने में सहायता होती है इसको रोजाना खाने से आपी आंतो की सफाई भी होती है !

4 – जानकारी के लिए बता दे की आगरा आप मोटापे का शिकार है तो ये आपके मोटापे को भी कम करने में सहायता करती है ! इस सब्जी को हफ्ते में 2 से 3 बार खाने से आपको मोटापे से भी छुटकारा मिल सकता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper