इस दिशा में रखें कछुआ, बिजनेस और करियर में मिलेगी तरक्की !

देखा जाए तो हम लोग अपने घर पर कुछ न कुछ ऐसा जरुर रखते हैं जिससे की हमारे घर को किसी की भी बूरी नजर न लगे और सब आपस में एक दूसरे के साथ अच्छे से रहे। आमतौर पर हम लोग अपने घर में विंड चाइम, लॉफिंग बुद्धा, फूल के अलावा कछुआ रखना भी बहुत शुभ माना जाता है।

मगर किसी भी चीज को रखने का फायदा तभी मिलता है जब उसको सही दिशा पर रखा जाए। कछुए को सही दिशा में रखने से शांति-सुकून बढ़ने के साथ ही स्वास्थ्य और समृद्धि में भी इजाफा होगा।

तो आइए जानते हैं फेंगशुई के अनुसार किस दिशा में कछुआ रखना चाहिए।

इस दिशा में रखें कछुआ

– काले रंग वाले कछुए को महेशा उत्तर दिशा में रखें। इससे बिजनेस और करियर में तरक्की मिलेगी।

– पश्चिम की दिशा में कछुआ रखने से घर में नहीं आएगी नेगेटिव एनर्जी।

कछुआ रखने के फायदे

परिवार में बढ़ता है प्यार

फेंगशुई के अनुसार घर में कछुआ रखने से परिवार के लोगों में प्यार बढ़ता है। इसके साथ ही घर में रखा क्रिस्टल कछुआ लाने से आर्थिक परेशानियां दूर होती हैं। इसके अलावा कछुआ रखने से परिवार के लोगों की उम्र लंबी होने के साथ ही वह कई बीमारियों से दूर रहते हैं।

तरक्की दिलाता है कछुआ

नौकरी और परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए घर में कछुए की मूर्ति लगाएं। मगर ध्यान रहें कछुअा वहां पर रखें जहां बच्चा पढ़ाई करता हो। कछुए की तरह उसका मन धीरे-धीरे पढ़ाई में लगने लगेगा और उसको सफलता मिलेगी।

3. शांति और धैर्य देता है कछुआ

फेंगशुई के अनुसार घर में रखा कछुआ शांति और धैर्य देता है। जैसे कछुआ धीरे-धीरे चलता हुआ अपनी मंजिल तक पहुंच जाता है ठीक वैसे ही आप भी सफलता प्राप्त कर लेंगे। वर्कप्लेस पर सिक्कों पर बैठे कछुए को रखे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper