इस देश में होती है वॉकिंग मैरिज, एक रात साथ गुजारने के बाद ही जुदा हो जाते हैं महिला-पुरुष

नई दिल्ली: हमारे यहां शादी को एक पवित्र बंधन माना जाता है। लोग सात जन्मों तक एक-दूसरे का साथ निभाने के वादे के साथ नए जीवन की शुरुआत करते हैं, लेकिन आप यह जानकर हैरान होंगे कि इसी दुनिया में एक ऐसा भी समुदाय है जहां महिला-सिर्फ एक रात संबंध बनाने के लिए ही शादी करते हैं। उसके बाद दोनों जुदा हो जाते हैं। वॉकिंग मैरिज के नाम से जाता है।

यह अजीबोगरी प्रथा प्रचलित है चीन के युन्नान, सिचुआन प्रांत और योंगनिंग शहर में, जहां रहने वाले मोजो समुदाय में आज भी वॉकिंग मैरिज की प्रथा प्रचलित है। दरअसल, मोजो एक मातृसत्तात्मक समुदाय है। करीब 56,000 आबादी के साथ मोजो चीन का एक अल्पसंख्यक समुदाय है।

वॉकिंग मैरिज में पुरुष महिला के साथ एक रात गुजारने के बाद अपने घर लौट जाता है और बच्चों को पालने की जिम्मेदारी उसकी नहीं होती है। मोजो परिवार में संयुक्त परिवार का सिस्टम पाया जाता है। कई पीढ़ी एक साथ लकड़ी के बड़े घर में रहती है।

अकसर वे एक साथ बड़े हॉलनुमा कमरे में रहते हैं जिसमें कोई प्राइवेट बेडरूम नहीं होता है, लेकिन जब मोजो समुदाय की लड़की 13 साल की हो जाती है तो उसको एक अलग प्राइवेट बेडरूम मिलता है। उस कमरे को हुफेंग कहा जाती है। हुफेंग में ही वॉकिंग मैरिज की रस्म को अंजाम दिया जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper