इस मेंढक ने निगल लिया दुनिया का सबसे जहरीला सांप, फिर भी है जिंदा-तस्वीरें देख हो जाएंगे दंग

Image result for coastal taipan snake frog

एक फेसबुक पेज टाउंसविले स्नेक टेक अवे एंड चैपल पेस्ट कंट्रोल पर यह खबर शेयर की गई। इसके बाद यह खबर इंटरनेट पर तेजी से वायरल हो रही है। इस सोशल मीडिया पोस्ट में दिखाया गया है कि एक हरे रंग के मेंढक ने जहरीले सांप को मुंह में दबा रखा है। हैरतअंगेज बात ये है कि ये सांप दुनिया का तीसरा सबसे जहरीला सांप है। इस सांप को खाकर पचाने के बाद भी मेंढक जिंदा बच गया।
Image result for coastal taipan snake frog

कोस्टल ताइपान का जहर न्यूरोटॉक्सिन होता है। इसका असर सीधे दिमाग पर होता है। इसके काटने के बाद इंसान के शरीर का तंत्रिका तंत्र काम करना बंद कर देता है। हालांकि, सांप विशेषज्ञों का मानना है कि कोस्टल ताइपान के काटने के बाद और मौत के बीच शरीर की सरंचना और इम्यून सिस्टम पर भी निर्भर करता है कि इंसान कितनी देर जिंदा रहेगा, लेकिन एक सामान्य मेंढक का जिंदा बचना हैरतअंगेज है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper