इस रहस्यमयी किले में छिपा हुआ है अरबों का खजाना, जिसे आज तक खोजा नहीं जा सका

हमीरपुर: हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले में एक रहस्यमयी किला बना हुआ है. कहते हैं कि इस किले में किसी अज्ञात जगह पर अरबों का खजाना छुपा हुआ है, जिसे आज तक खोजा भी नहीं जा सका है. किले को सुजानपुर के किले के नाम से भी जाना जाता है और यहां छुपे खजाने की वजह से ही इसे हमीरपुर का ‘खजांची किला’ कहते है और इस किले को कटोच वंश के राजा अभय चंद द्वारा 260 साल पहले यानी साल 1758 में बनवाया गया था और उसके बाद यहां राजा संसार चंद द्वारा राज किया गया था.

साथ हे कहा जाता है कि कि इस किले में आज भी राजा संसार चंद का खजाना मौजूद है, हालांकि इस खजाने के रहस्य से न तो आज तक पर्दा उठ सका है और न ही कोई खजाने तक आज तक पहुंच सका है. ख़ास बात यह है कि किले के अंदर ही एक पांच किलोमीटर लंबी सुरंग भी है, हालांकि इस सुरंग के अंतिम छोर तक आज तक कोई भी नहीं पहुंच सका है और रास्ता तंग और अंधेरा होने के कारण इस सुरंग में 100 मीटर से ज्यादा अंदर जाने की कोई भी हिम्मत नहीं जुटा पाता है. इस किले के आसपास रहने वाले ग्रामीणों ने बताया कि रात में किले से अजीब-अजीब आवाजें आती हैं और उनका ऐसा मानना है कि खजाने की रक्षा किले में मौजूद रूहानी ताकतें करती हैं. लेकिन इसका कोई पुख्ता सबूत किसी के पास भी नहीं है.

यह भी कहा जाता है कि राजा संसार चंद इस किले का प्रयोग लूटे हुए खजाने को छुपाने के लिए करते थे और इसी के लिए उन्होंने किले में एक गुप्त सुरंग का निर्माण भी करवाया था, जिसका रास्ता सीधे खजाने पर जाकर ही खुलता था. ख़ास बात यह है कि यहां छिपे खजाने की खोज में मुगलों समेत कई राजा-महाराजा और ग्रामीण किले में कई दफा खुदाई कर चुके हैं और यहां तक वे उस रहस्यमयी सुरंग में भी जाने की कोशिश कर चुके हैं, हालांकि सबको अब तक नाकामी ही हाथ लगी है.

विवादों के बीच अक्षरा और पवन सिंह के इस गाने में इंटरनेट पर मचाया धमाल, मिले करोड़ों व्यूज

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper