इस वजह से अपनी पत्नी और बच्चों को ऑस्ट्रेलिया में रखते है शिखर धवन, बड़ी वजह आई सामने

जैसा की आप सभी को पता है कि भारतीय क्रिकेट टीम के ओपनर बल्लेबाज शिखर धवन फिलहाल समय से अपनी फैमिली को भारत नहीं लाए हैं। शिखर धवन ने अपनी फैमिली को भारत लाने के पीछे असली वजह बताइ थी। शिखर धवन ने कुछ समय पहले मीडिया से रूबरू होते हुए ऑस्ट्रेलिया शिफ्ट होने के लेकर बहुत सी बातें कही थी। शिखर धवन ने बेहद खूबसूरत आयशा मुखर्जी से शादी की थी और यह दोनों लोग पहली बार फेसबुक पर मिले थे।

शिखर धवन से पहले भी आयशा मुखर्जी का तलाक हो चुका था लेकिन फिर भी शिखर धवन ने आयशा मुखर्जी से शादी किया और अपने प्यार का सबूत दिया। शिखर धवन ने खुद बताया था कि हम दोनों ने मिलकर यह फैसला किया था कि, हम मेलबर्न में ही बस जाएंगे क्योंकि लड़कियां स्कूल जाती है और और उन्हें भारत ले जाने का मतलब है कि वह मूल रूप से शुरू से अपने पढ़ाई की शुरुआत करें जोकि उचित नहीं होगा।

शिखर धवन ने कहा कि मैं साल भर में लगभग ढाई सौ दिन भारतीय टीम के साथ रहता हूं . समय मिलता है तो मैं ऑस्ट्रेलिया जाकर अपनी पत्नी और बच्चों के साथ समय बिताता हूं। शिखर धवन की बातों से साफ पता चल रहा था कि वह हमेशा के लिए ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में रहना चाहते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper