इस शहर का किस्सा है भयानक, रहस्यमयी मौतों से लिखा है इसका इतिहास

नई दिल्ली। जिस शहर के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं उसका इतिहास बेहद ही डरावना है। हम बात कर रहे हैं स्कॉटलैंड की राजधानी एडिनबर्ग की। एडिनबर्ग की गिनती दुनिया के सबसे डरावने शहरों में होती है। इस शहर का इतिहास खून से सना है। एडिनबर्ग में कई भीषण युद्ध हुए, महामारी से कई लोगों की जानें गईं। एक समय था जब अंधविश्वास की पट्टी लोगों की आंखों में बंधी हुई थी। यहां अंधविश्वास के चलते लोगों को जलाया गया और कई रहस्यमयी मौतें भी हुईं। एडिनबर्ग के पुराने शहरों में लोग भूतों के किस्से सुनाया करते हैं।

ओल्ड रिकी या ओल्ड स्मोकी नाम से मशहूर यह किस्से लेखकों द्वारा उनकी किताबों में अक्सर इस्तामेल किए जाते रहे हैं। एडिनबर्ग की अंधेरी, संकरी गलियां और तंग खड़ी सीढ़ियों का वर्णन अपनी किताबों में करके लेखक लोगों को डराते हैं। कई लेखकों का कहना है कि इस शहर की हवा में ही कुछ ऐसा है जो उनको अलग शक्ति का एहसास कराता है। यहां का माहौल लेखकों की कल्पना को चिंगारी देता है।

किंवदंती है कि यहां के पूर्व लॉर्ड एडवोकेट की आत्मा भटकती रहती है। यहां उनका मकबरा बनाया गया है। लोगों का कहना है कि एक बार एक बेघर शख्स उनके मकबरे में दाखिल हो गया। उसका ऐसा करने की वजह से लॉर्ड एडवोकेट की आत्मा नाराज़ हो गई और उस शख्स को एडवोकेट की आत्मा ने पीट-पीटकर अधमरा कर दिया। इस घटना के बाद कई लोगों को वहां किसी आत्मा के होने का एहसास हुआ। यहां इसी तरह के डरावने किस्सों ने कई लेखकों को प्रभावित किया। ऐसे डरावने इतिहास को अपनी कोख में दबाए इस शहर का वर्त्तमान आज एकदम अलग है। आज के समय में एडिनबर्ग शायद दुनिया का एकमात्र ऐसा शहर है जहां पूरे साल त्योहारों का मौसम रहता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper