उप्र सरकार को किसानों की याद केवल विज्ञापनों में आती है : प्रियंका गांधी

नई दिल्ली: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार पर राज्य में कर्ज में डूबे किसानों को कर्ज माफी के नाम पर धोखा देने और अत्यधिक बारिश के कारण उनकी फसल को हुए नुकसान का मुआवजा देने में विफल रहने का आरोप लगाया।

प्रियंका ने ट्वीट किया, “उप्र सरकार ने किसानों को परेशान करने के कई तरीके ईजाद किए हैं। कर्जमाफी के नाम पर धोखा किया। बिजली बिल के नाम पर उनको जेल में डाला और बाढ़-बारिश से बर्बाद फसल का कोई मुआवजा नहीं मिल रहा है। उप्र में भाजपा सरकार को किसानों की याद केवल विज्ञापनों में आती है।”

कांग्रेस नेता राज्य में किसानों की बेहतरी के लिए काम नहीं करने पर आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधती रहती हैं।

पायलट बनने का सपना पूरा हुआ तो गांव के बुजुर्गों को अपने खर्च पर घुमाया हवाई जहाज में

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper