एक ऐसा गांव जो है बेहद खूबसूरत लेकिन यहां नहीं रहता कोई इंसान, वजह बेहद हैरान करने वाली

नई दिल्ली: आज की दौड़ती-भागती जिंदगी में हर कोई गांव से दूर शहरों की तरफ आ रह है। रोजगार इसके पीछे एक बड़ी वजह है, लेकिन जब भी लोगों को मौका मिलता है वो गांव में जाकर सुकून के पल बिताते हैं। हालांकि, गांवों में अब भी बूढ़े-बुजुर्ग मौजूद हैं। लेकिन क्या आपने कभी ऐसे किसी गांव के बारे में सुना या देखा है जो है तो बेहद खूबसूरत, लेकिन यहां एक भी आदमी नहीं रहता। चौंकिए मत ये सच है।

दरअसल, इंग्लैंड के विल्टशायर में सेलिसबरी मैदान पर कोपहिल डाउन नाम का एक गांव है। ये बेहद शानदार और खूबसूरत गांव है। बावजूद इसके यहां एक भी इंसान नहीं दिखता। इसके पीछे की वजह ये है कि इस गांव को ब्रिटिश आर्मी ने बनाया है। कोल्ड वॉर के समय में ब्रिटेन ( Britain ) की सेना ने ये गांव मॉक ड्रिल और प्रैक्टिस के लिए बनवाया था।

इसे FIBUA नाम दिया गया जिसका मतलब है फाइटिंग इन बिल्ट अप एरियाज। इस गांव का निर्माण 1988 में शीत युद्ध के दौरान जर्मनी के बाल्कल गांव की तर्ज पर बनाया गया था। यहां पिछले कुछ सालों में विस्तार किया गया। इसे गरीबों की बस्ती जैसा बनाया गया।

इसका निर्माण इसलिए किया गया ताकि इराक और अफगानिस्तान में सेना के मौजूदा ऑपरेशन को वहां से मिलते-जुलते इलाके में ट्रेनिंग का मौका मिले। इस गांव में आम आदमी की एंट्री बैन है। हालांकि, यहां की सुविधाओं का इस्तेमाल कुछ ब्रिटिश एयरसॉफ्ट इवेंट आयोजक और ऐतिहासिक पुनर्विकास सोसाइटियों द्वारा किया जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper