एक ऐसा रेलवे स्टेशन जहां रोज सिर्फ 2 यात्री सफर करते हैं

नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी ने पिछले वर्ष ओडिशा में बिछूपालि रेलवे स्टेशन का उद्घाटन किया था। एक वर्ष बाद भी यहां रेलवे को सिर्फ दो यात्री ही मिलते हैं। इस कारण इस रेलवे स्टेशन से रेलवे की कमाई प्रतिदिन सिर्फ 20 रुपये है। एक आरटीआई के जवाब में यह खुलासा हुआ है।

बलांगीर निवासी हेमंत पांडा ने आरटीआई के जरिए ईस्ट कोस्ट रेलवे से इस रेलवे स्टेशन के बारे में पूरा ब्योरा मांगा था। इसमें खर्च और आय दोनों के बारे में जानकारी मांगी गई थी। सूत्रों के मुताबिक रेलवे हर महीने यहां करीब 3.5 लाख रुपये खर्च करता है। यहां स्टेशन मास्टर को लेकर कुल चार कर्मचारी काम करते हैं।

बिछूपालि स्टेशन और बिछूपालि-बलांगीर रेलवे लाइन पर कुल 115 करोड़ रुपये का खर्च आया था। तीन कोच के साथ दो पैसेंजर ट्रेनें दिन में दो बार यहां गुजरती हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी कहते हैं, बलांगीर और खुर्दा के बीच नई लाइन बन जाने के बाद यात्रियों की संख्या में इजाफा होगा। ट्रेन को भी अब संबलपुर तक चलाने का निर्णय लिया गया है। इससे आय भी बढ़ेगी।

हालांकि सूत्रों का कहना है कि यहां पर ज्यादा यात्रियों की उम्मीद बेमानी है। वैसे भी जब तक यात्रियों की संख्या में इजाफा नहीं होता तब तक इस ट्रैक पर ट्रेनें तो चलती ही रहेंगी ताकि ट्रैक पर कोई दिक्कत न आए।बता दें कि बलांगीर जिले के अंतर्गत आने वाले बिछूपालि स्टेशन का जब उद्घाटन हो रहा था, तब भी इसकी बहुत चर्चा थी। यह इसलिए भी कि यहां महज 20 लोग रहते हैं। हैरान करने वाली बात यह भी थी कि यहां पर न तो स्कूल है और न ही बिजली की ही व्यवस्था है। बिछूपालि में तैयार किया गया यह रेलवे स्टेशन यहां की एक मात्र सरकारी इमारत है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper