एक माँ की मजबूरी ऐसी भी

कोरोना संकट ने कीनिया में एक महिला को इतना ग़रीब बना दिया कि उन्हें अपने बच्चों को बहलाने लिए पत्थर पकाने का नाटक करना पड़ रहा था। आठ बच्चों की माँ पेनिना बहाती कित्साओ निरक्षर और विधवा हैं। वह लोगों के कपड़े धोकर अपना और अपने बच्चों का पेट पालती थीं, लेकिन कोरोना संक्रमण फैलने के बाद उनका काम ठप हो गया।
पेनिना के लिए ग़रीबी और मुश्किलें इतनी बढ़ गईं कि उन्हें अपने बच्चों को खिलाने के लिए खाना नहीं था। इसलिए उन्होंने अपने बच्चों को बहलाने के लिए पत्थर उबालना शुरू कर दिया। पेनिना ने सोचा कि उन्हें कुछ पकाते देख बच्चे खाने के इंतज़ार में सो जाएंगे। उनकी एक पड़ोसन प्रिस्का मोमानी ने इस पूरे वाक़ये का वीडियो बना लिया और मीडिया को इस बारे में बता दिया। पेनिना की कहानी सुनकर लोगों ने उनके लिए पैसे इकट्ठा किए और उन्हें पूरे कीनिया से फ़ोन आने लगे। लोगों ने उन्हें मोबाइल ऐप के ज़रिए पैसे भेजे। एक पड़ोसी ने उनका बैंक अकाउंट खुलवाया जिससे उन्हें पैसे मिले।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper