एनडीए से रूठी अनुप्रिया पटेल, बीजेपी से की पांच सीटों की मांग

दिल्ली ब्यूरो: बिहार के बाद यूपी एनडीए में खेल जारी है। एनडीए की सहयोगी और केंद्र में मंत्री अनुप्रिया पटेल ने बीजेपी पर दबाब बनाते हुए अब अगले लोकसभा चुनाव के लिए पांच सीटों की मांग की है। 2014 के लोकसभा चुनाव में अपना दल को 2 सीटें दी गईं थी, पार्टी ने दोनों ही सीट पर जीत हासिल की थी। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में अपना दल को 11 सीटें दी गईं थी, जिनमें से पार्टी ने 9 सीटों पर जीत हासिल कर शानदार प्रदर्शन किया था।

अपना दल का आरोप है कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में उसे उचित स्थान नहीं दिया जा रहा है। पार्टी का कहना है कि उनकी तुलना में एक छोटी पार्टी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को उत्तर प्रदेश में कैबिनेट मंत्री का पद दिया गया है। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी की यूपी विधानसभा में 4 सीटें हैं। पार्टी के मुखिया ओमप्रकाश राजभर को योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया है। जबकि अपना दल की यूपी में 9 सीटे हैं, वहीं उसके पास कैबिनेट मंत्री का एक भी पद नहीं है।

अपना दल इस बात से भी नाराज है कि योगी सरकार ने सत्ता में आने के बाद से अभी तक एक भी बार कैबिनेट में बदलाव या उसका विस्तार नहीं किया है। उत्तर प्रदेश में सिर्फ अपना दल के नेता जय कुमार सिंह को राज्यमंत्री का पद दिया हुआ है। सूत्र बताते हैं कि बहुमत आने के बाद सरकार बनी तो तय हुआ कि अपना दल के अध्यक्ष आशीष पटेल को मंत्रिमंडल में लिया जाएगा। उन्हें एमएलसी भी बनाया गया। मंत्रिमंडल विस्तार में देरी के चलते यह वादा पूरा नहीं हो पाया है। नाराजगी का एक कारण यह भी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper