एयर स्ट्राइक पर उठ रहे सवाल के बीच अमित शाह का बड़ा दावा

दिल्ली ब्यूरो: विंग कमांडर अभिनन्दन के घर वापसी के बाद एयर स्ट्राइक को लेकर उठ रहे सवाल के बीच बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने गुजरात के अहमदाबाद में एक रैली में अपने भाषण के दौरान 26 फरवरी को बालाकोट में हुए सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर दावा किया है कि वायुसेना के इस हमले में 250 से भी अधिक आतंकी मारे गए। उन्होंने रैली को संबोधित करते हुए कहा, “पुलवामा आतंकी हमले के बाद हर किसी को लगता था कि इस बार सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हो सकती है, लेकिन क्या हुआ? पुलवामा आतंकी हमले के 13वें दिन की गई मोदी सरकार की एयरस्ट्राइक में 250 से अधिक आतंकी मारे गए हैं। ” मालूम हो कि वायुसेना द्वारा किए गए एयर स्ट्राइक के बाद तीनों सेनाओं की बैठक हुई थी, जिसमें एयर वाइस मार्शल आर के कपूर ने आतंकी के मारे जाने की संख्या नहीं बताई थी।

गठबंधन की बहस के बीच आप ने की दिल्ली में उम्मीदवारों की घोषणा

अमित शाह ने अहमदाबाद के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, “जब विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान पकड़े गए तो विपक्ष फिर शुरू हो गया। लेकिन मोदी सरकार का ऐसा असर था कि दुनिया में पहली बार किसी युद्ध-बंदी को इतनी जल्दी छोड़ा गया हो। अमेरिका और इजरायल के अलावा भारत एकमात्र देश है जिसने अपने सैन्य बलों पर हमले का बदला लिया है।” वहीं, गुजरात के सूरत में एक अन्य कार्यक्रम में उन्होंने कहा, “विपक्ष ने एयर स्ट्राइक पर सवाल उठाकर पाकिस्तान के चेहरे पर मुस्कान ला दी। ममता कहती हैं सबूत कहां है, राहुल कहते हैं इसका राजनीतिकरण किया जा रहा है, अखिलेश कहते हैं इसकी जांच होनी चाहिए। मैं कहता हूं इन्हें शर्म आनी चाहिए। आप मोदी और सेना को सपोर्ट नहीं कर सकते तो कम से कम चुप रहिए। “

अहमदाबाद में शाह ने कहा कि जब भारतीय वायुसेना ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके तथ्य सामने रख दिए फिर भी अगर हम भारत के नागरिक होने के नाते भरोसा नहीं कर सकते तो हमें शर्म आनी चाहिए। जो सबूत मांग रहे हैं वो पाकिस्तान की मदद कर रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper