ऐसी लड़कियां जिस घर में जाती हैं, उस घर में होता है सौभाग्य ही सौभाग्य

नई दिल्ली: इस समय शादी विवाह का सीजन चल रहा है। विवाह एक ऐसी चीज होती है। जिसमें परिवार के साथ-साथ लड़की और लड़का के आकार, रंग, रुप में भी ज्यादा ध्यान दिया जाता है। इसके साथ ही स्वभाव और चरित्र को भी देखा जाता है। जिससे की समाज में उन्हें मान-प्रतिष्ठा मिलें। साथ ही घर-परिवार का ठीक से ख्याल रखें।

सामुद्रिक शास्त्र एक ऐसा शास्त्र है। जिसमें ये बताया गया है कि किसी के स्वभाव, चरित्र के बारें में आसानी से उसकी चाल-ढाल आदि से जान सकते है। अगर आप भी शादी के लिए कोई ऐसी लड़की ढूंढ़ रहे है, तो हम आपको उशके बिना जाने ऐसे पता चला सकते है कि कैसे चरित्र, स्वभाव की है।

सामुद्रिक शास्त्र में आज हम बात करेंगे ऐसी जीवनसाथी के बारे में जो आपके घर में आने के बाद आपके सौभाग्य को बढ़ा देगी और आपके जीवन में खुशियां बिखेर देगी। जिसका मस्तक गोलाकार और आंखें चंचल होती हैं, साथ ही जिनके बाल काले होते हैं, वे लड़कियां चेहरे से तो सुन्दर होती ही हैं, साथ ही मन से भी सुन्दर होती हैं। इनकी आवाज में अलग ही मीठास होती हैं।

ऐसी लड़कियां जिस घर में जाती हैं, उस घर में सौभाग्य ही सौभाग्य होता है। ये अपनी बोली से ही दूसरों को खुश कर देती हैं। इन्हें सजने-संवरने में बड़ी ही रूचि होती है। इसी कारण इन्हें चित्रिणी की संज्ञा भी दी गयी है। भले ही इन्हें ज्यादा मेहनत का काम पसंद न हो, लेकिन अपनी बुद्धिमानी और समझ से ये हर काम को सरलता से करने की कोशिश करती हैं। इनकी कला के क्षेत्र में भी विशेष रूचि होती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper