कंगाली नहीं छोड़ रही पीछा तो आज ही आजमाएं ये उपाय

हर कोई पैसों के लिए जी तोड़ मेहनत करता है। हर वो संभव कोसिस करता है जो उसको ज्ञात है परन्तु हर कोई सफल नही हो पाता । कठिन मेहनत के बावजूद भी घर मे समृद्धि नही आ पाती जिस से चिंतित होना लाजमी है । आज हम आपको बताएंगे वो उपाय जिसे कर के आप सरल तरीके से अपने घर मे समृद्धि ला सकते हैं । अगर जीतोड़ मेहनत के बावजूद भी आप अपने घर मे समृद्धि नही ला पा रहे हैं तो निश्चित रूप से आप वास्तुशास्त्र को अनदेखा कर रहें हैं जिस कारण आप का कठिन मेहनत भी काम नही कर रहा ।

1- वास्तुशास्त्र में कांट का बर्तन को समृद्धि का प्रतीक कहा गया है । घर मे समृद्धि लाने के लिए आप अपने मुख्य द्वार पर कांट का बर्तन रखें और उसमें खुशबू वाले नित्य ताजे फूल रखते रहें इस से घर मे सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बढ़ेगा और घर मे सुख समृद्धि आएगी ।

2- वास्तुशास्त्र में पीपल, आम और अशोक पत्तो को अत्यंत पूजनीय बताया गया है आप इन के पत्तो का माला बनाकर अपने मुख्य द्वार पर लगाएं ये निगेटिव एनर्जी का पूर्ण नाश कर देंगे और घर मे सुख शांति बनी रहेगी ।

3- लक्ष्मी जी के आशीर्वाद पाने के लिए मुख्य द्वार पर लक्ष्मी जी के पैर बनाएं । पैर ऐसे बनाये जिस से प्रतीत हो कि कोई घर मे अंदर के तरफ आ रहा हो, भूल से भी बाहर के तरफ जाते पैर न लगाए । वास्तुशास्त्र के अनुसार ऐसा करने से माता लक्ष्मी की कृपा आप पर बरसती रहेगी और समृद्धि आपके दरवाजे पर रहेगी ।

4- वास्तुशास्त्र में दरवाजा को अत्यधिक महत्व दिया गया है घर बनवाते समय दरवाजा बनवाना न भूलें । घर का दरवाजा नित्य हल्दी लगे जल से धोएं ऐसा करने पर घर मे अर्थ समस्या कभी नही आएगी घर मे समृद्धि हमेशा बनी रहेगी ।

5- घर के मुख्य द्वार पर स्वास्तिक अवश्य बनाएं इसके प्रभाव से घर मे हमेशा उन्नति बनी रहेगी वास्तुशास्त्र में शुभ निशानों में से एक निशान स्वस्तिक का माना जाता है । स्वस्तिक सभी प्रकार के शोक से घर को मुक्त रखती है ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper