कई तरह के हृदय रोग से भी बचाता है छाछ

नई दिल्ली: गरमी के मौसम में स्वस्थ रहना है तो छाछ जरुर पीना चाहिए। इसमें मौजूद हाई न्यट्रिशंस वैल्यू आपको लू से बचाता है, शरीर को हाइड्रेटेड रखता है और साथ ही साथ आपको कई तरह के हृदय रोग से भी बचाता है। लिहाजा हमें खाने के बाद छाछ का सेवन जरूर करना चाहिए। हाल ही में हुई एक रिसर्च की मानें तो छाछ में ऐसे कई स्पेसिफिक मॉलेक्यूल्स पाए जाते हैं जो हार्ट को हेल्दी रखने में मदद करते हैं।

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल द्वारा प्रकाशित इस रिसर्च में यह भी कहा गया है कि छाछ यानी बटरमिल्क में मौजूद बायोमॉलेक्यूल्स खून में मौजूद कलेस्ट्रॉल के साथ-साथ दूसरे हानिकारक लिपिड्स के भी बनने को रोकते हैं जिससे किसी व्यक्ति को हार्ट अटैक होने का खतरा रहता है। कई स्टडीज में यह बात सामने आ चुकी है कि छाछ में बायोटिक प्रोटीन पाए जाते हैं, जो आपको हाई ब्लड प्रेशर से और बैड कलेस्ट्रॉल से बचाए रखते हैं।

इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटी कैंसर प्रॉपर्टीज होती है। छाछ में काफी तादाद में न्यूट्रिशंस पाए जाते हैं, लेकिन इसमें फैट और कैलरी न के बराबर होता है। इसलिए आप इसे बेहिचक जितना चाहें, उतना पी सकते हैं। अगर आपने किसी दिन खाना ज्यादा खा लिया है, तो उस दिन 1 गिलास छाछ पी लें। छाछ, आपके पाचन तंत्र को तो फिट रखता ही है, साथ ही पेट के इनर वॉल्स से भी फैट को हटाता है।

अगर आपको काम के सिलसिले में धूप में निकलना पड़ता है, तो रोजाना एक गिलास छाछ पिएं। यह आपको हाइड्रेट रखने के साथ ही लू से बचाएगा। यह कहना गलत न होगा कि छाछ, आपको कई तरह की समर प्रॉब्लम्स से बचाकर रखेगा। छाछ को बटरमिल्क भी कहा जाता है और मौसम जब गर्मी का हो, तो भला इस ड्रिंक से बेहतर और क्या हो सकता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper